श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के 2011 बैच के टॉपर और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट के संस्थापक शाह फैसल (Shah Faesal) पर पब्लिक सिक्योरिटी एक्ट (PSA) लगाया गया है।

बता दें कि IAS की नौकरी छोड़कर राजनीति में आने वाले शाह फैसल जम्मू एंड कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट (JKPM) के अध्यक्ष हैं। वह पिछले साल अगस्त में दिल्ली एयरपोर्ट से हिरासत में लिये जाने के बाद से ही उनके घर में नजरबंद है। वह दिल्ली से इस्तांबुल जा रहे थे।

हाल ही में राज्य के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला. पीडीपी नेता और पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती, अली मोहम्मद सागर, सरताज मदनी, हिलाल लोन और नईम अख्तर पर भी पब्लिक सिक्योरिटी एक्ट लगाया गया है।

शुक्रवार को अपने भाई उमर अब्दुल्ला को पीएसए के तहत हिरासत में रखे जाने के खिलाफ उनकी बहन सारा अब्दुल्ला ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। सारा की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन को नोटिस जारी कर 2 मार्च तक जवाब मांगा है। सारा अब्दुल्ला ने मामले पर तुरंत कोई फैसला देने का अनुरोध किया था जिसे कोर्ट ने नहीं माना। इस तरह उमर अब्दुल्ला फिलहाल 2 मार्च तक हिरासत में ही रहेंगे।

पब्लिक सिक्योरिटी एक्ट जम्मू कश्मीर का एक विशेष कानून है। इसे 1978 में फारूक अब्दुल्ला के पिता शेख अब्दुल्ला ने लागू किया था। 2010 में इसमें संशोधन किया गया था, जिसके तहत बगैर ट्रायल के ही कम से कम 6 महीने तक जेल में रखा जा सकता है। राज्य सरकार चाहे तो इस अवधि को बढ़ाकर दो साल तक भी किया जा सकता है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन