Sunday, September 19, 2021

 

 

 

दीजिए मुबारकबाद: सीए फाइनल में कोटा के शादाब हुसैन ने किया टॉप, दूसरे स्थान पर रहे शाहिद हुसैन

- Advertisement -
- Advertisement -

इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) ने नवंबर में हुई फाइनल (ओल्ड, न्यू) सीपीटी, फाउंडेशन परीक्षा के नतीजे घोषित कर दिए हैं। फाइनल ओल्ड परीक्षा के नतीजों में कोटा के शादाब हुसैन ने 74.63 फीसदी अंकों के साथ ऑल इंडिया टॉप किया है। उन्हें 800 में से 597 अंक प्राप्त हुए हैं। वहीं दूसरे स्थान पर कोडे (गुजरात) के शाहिद हुसैन शौकत ने 800 में से 584 अंक लेकर 73 फीसदी अंक प्राप्त किए हैं। इसके अलावा फाइनल न्यू परीक्षा में राजस्थान के सिद्धांत भंडारी टॉपर बने हैं। उन्हें 800 में से 555 अंक मिले हैं। जबकि दूसरे स्थान पर 68 फीसदी अंकों के साथ रायपुर के रोहित कुमार सोनी रहे हैं।

वहीं, तीसरे नंबर पर दो उम्मीदवारों ने जगह बनाई। इसमें अहमदाबाद (गुजरात) के पुलकित अरोड़ा और कोलकाता (पश्चिम बंगाल) के जय बोहरा शामिल हैं। इन्हें 67.63 फीसदी अंक प्राप्त हुए हैं। आईसीएआई ने सीए फाउंडेशन परीक्षा का भी रिजल्ट जारी किया है। इसमें देवास (मध्य प्रदेश) के गर्वित जैन 93.50 फीसदी अंकों के साथ टॉपर बनें। वहीं, फरीदाबाद (हरियाणा) के क्षितिज मित्तल दूसरे नंबर पर रहे। उन्हें 92.50 फीसदी अंक प्राप्त हुए हैं।

बता दें कि शादाब हुसैन ने पहले ही प्रयास में सीए की परीक्षा पास कर ली है। उन्होंने कोटा यूनिवर्सिटी से बी.कॉम की डिग्री हासिल की है। उनके पिता दसवीं पास हैं और टेलरिंग का काम करते हैं। उनकी मां स्कूल ड्रॉपआउट हैं। उनकी चार बहनें भी हैं। कम पढ़ा-लिखा होने के बावजूद भी शादाब के माता-पिता ने उन्हें अच्छी शिक्षा दिलाई। शादाब ने कहा, मैंने दिन-रात पढ़ाई की ताकि मुझे एक नौकरी मिल सके और मेरे माता-पिता अपने बुढ़ापे की चिंता करना छोड़ दें। मैंने सीए को एक ऐसे प्रोफेशन के तौर पर देखा जहां आप जिंदगीभर सीख सकते हैं। कभी रिसर्च करने के बाद मैंने सीए के प्रोफेशन को अपने लिए चुना।

23 वर्षीय शादाब ने कहा कि वो हर दिन 14-13 घंटे पढ़ाई करते थे। उन्होंने अपनी सफलता पर खुशी जताते हुए कहा कि ये उनके परिवार के लिए सबसे खुशी का दिन है। शादाब ने बताया कि उन्होंने इंटीग्रेटेड प्रोफेशनल कम्पीटेंस कोर्स एग्जाम आईपीसीसी में भी टॉप किया है। उन्होंने कहा कि सीए की परीक्षा को क्रैक करने के लिए पढ़ाई के दौरान दिमाग को शांत रखना और क्या पढ़ाई की उसकी समीक्षा करना बेहद जरूरी है। वे हर तीन-चार घंटे की पढ़ाई के बाद आधे घंटे का ब्रेक लेते थे और दिनभर में कम से कम 2-3 किलोमीटर जरूर टहलते थे।

उन्होंने बताया कि जैसे-जैसे परीक्षा का समय पास आता गया उन्होंने पढ़ाई करने का समय कम कर दिया ताकि वे अपने दिमाग को सक्रिय रख सकें। शादाब ने अन्य उम्मीदवारों को सलाह देते हुए कहा, हर दिन कम से कम आधा या एक घंटा समय खुद के लिए निकालें। इस दौरान पूरे दिन की गई पढ़ाई के बारे में सोचें। इससे न सिर्फ आपको बेहतर महसूस होगा बल्कि आपका रीविजन भी हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles