modi

modi

16 फ़रवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने परीक्षा के लिए तैयारी करने वाले छात्रों के साथ एक सत्र का आयोजन किया था. अब स्कूलों से मोदी के भाषण और काउंसलिंग के फोटो और वीडियो देखने के प्रमाण प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है.

सूत्रों के मुताबिक, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सभी राज्य सरकारों को तुरंत प्रधान मंत्री के संवाद की रिपोर्ट संकलित करने के निर्देश दिए हैं. राज्य सरकारों ने बदले में, सभी स्कूलों को निर्देश दिए है की वह उन सभी छात्रों का विवरण प्रदान करने के साथ ही साथ उनकी भागीदारी के फोटो और वीडियो जमा करें. देशभर के स्कूलों ने अपने संबंधित राज्य शिक्षा विभागों से फरवरी 19 तक सबूत पेश करने के लिए कहा गया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

विभिन्न जिला मुख्य शिक्षा अधिकारियों द्वारा जारी किए गए सरकुलेशन में एक फार्म भी शामिल था, जिसमें स्कूलों की कुल संख्या, नामांकन आंकड़े, जिन छात्रों ने प्रसारण देखा था, की संख्या की जानकारी मांगी थी. टेलीविजन, रेडियो या वेब स्ट्रीमिंग, पीएमओ, एमएचआरडी, दूरदर्शन, MyGov.in और इंटरनेट चैनलों की वेबसाइट के माध्यम से इसे देखते हुए छात्रों की संख्या का पूरा ब्यौरा माँगा है.

एक वरिष्ठ मानव संसाधन विकास अधिकारी ने कहा कि यह राज्यों और ऑटोनोमस बॉडीज जैसे केवीएस और सीबीएसई छात्रों के साथ प्रधान मंत्री के हाल के सत्र पर फीडबैक माँगा था लेकिन अधिकारी ने कहा कि, “परीक्षा पर चर्चा” के कोई भी सबूत नहीं मिलें है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक, तमिलनाडु के मुख्य शिक्षा अधिकारियों ने बताया की उन्हें राज्य के सभी स्कूलों में फॉर्म भेजने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय से निर्देश मिले थे.