बजाज ग्रुप के चेयरमैन राहुल बजाज ने कुछ दिन पहले बयान दिया था कि मोदी सरकार की खुलेआम आलोचना करने से देश का आम नागरिक डरता है और वे नहीं जानते कि सरकार आलोचना को सही मायनों में समझेगी। इस पर आरपी-संजीव गोयनका ग्रुप के चेयरमैन संजीव गोयनका ने अपनी असहमति व्यक्त की है। उन्होने कहा कि वह राहुल बजाज के उस बयान से सहमत नहीं हैं। संजीव गोयनका ने कहा कि उद्योगपतियों में डर का कोई माहौल नहीं है।

शुक्रवार को इंडिया टुडे ईस्ट कॉनक्लेव 2019 में संजीव गोयनका ने कहा कि “मैं राहुल बजाज के सहमत नहीं हूं। उनका अपना नजरिया है और मेरा अपना। मैं नहीं जानता कि उन्होंने ऐसा क्यों कहा लेकिन मुझे लगता है कि ऐसी कोई बात नहीं है।” निजी कंपनियों के निवेश में कमी पर संजीव गोयनका ने कहा कि ‘भारतीय इंडस्ट्री ने 4-5 साल पहले खूब निवेश किया था और हम सभी ने उम्मीद की थी कि जीडीपी 10 या 9 प्रतिशत रहेगी। लेकिन मांग उस हिसाब से पैदा नहीं हो सकी और इसके चलते हम क्षमता का पूरा उपयोग नहीं कर पा रहे हैं।’

सरकार की तारीफ करते हुए संजीव गोयनका ने कहा कि मोदी सरकार आम आदमी तक पहुंचने का प्रयास कर रही है, इससे पहले अभी तक किसी सरकार ने ऐसा नहीं किया है। गोयनका ने कहा कि वह एनडीए सरकार में संरचनात्मक बदलाव की इच्छा और समर्पण देख रहे हैं। मशहूर उद्योगपति ने इलेक्टोरल बॉन्ड्स की तारीफ करते हुए कहा कि यह पुरानी इलेक्ट्रॉनिक फंडिंग के मुकाबले ज्यादा पारदर्शी प्रक्रिया है।

बता दें कि मुंबई में द इकॉनमिक टाइम्स के अवॉर्ड फंक्शन में राहुल बजाज ने कहा था कि ‘…कोई बोलेगा नहीं, कोई बोलगा नहीं इंडस्ट्रियलिस्ट फ्रेंड, मैं यह बात खुलेआम कहूंगा…एक माहौल पैदा करना होगा…यूपीए 2 में तो हम किसी को भी गाली दे सकते थे.. आप अच्छा काम कर रहे हैं, उसके बाद भी हम आपको क्रिटिसाइज ओपनली करें, कॉन्फिडेंस नहीं है कि आप एप्रीशियट करेंगे।’

उन्होंने कहा, हमारे मन में है, लेकिन कोई इंडस्ट्रियालिस्ट बोलेगा नहीं, हमें एक बेहतर जवाब सरकार से चाहिए, सिर्फ इनकार नहीं चाहिए, मैं सिर्फ बोलने के लिए नहीं बोल रहा हूं, एक माहौल बनाना पड़ेगा, मैं पर्यावरण और प्रदूषण की बात नहीं कर रहा हूं, यूपीए-2 में तो हम किसी को भी गाली दे सकते थे, वह अलग बात है, आप अच्छा काम कर रहे हैं, लेकिन हम खुलकर आपकी आलोचना करें, तो भरोसा नहीं है कि आपको बुरा नहीं लगेगा, मैं गलत हो सकता हूं, लेकिन वह सबको लगता है कि ऐसा है, मैं सबकी तरफ से नहीं बोल रहा हूं, मुझे यह सब बोलना भी नहीं चाहिए, क्योंकि लोग हंस रहे हैं कि चढ़ बेटा सूली पर….”

राहुल बजाज ने बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे वाले बयान का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि, “सब जानते हैं कि जिसने गांधी जी की हत्या की, इसमें किसी को शक है क्या किसी को, पहले भी बोली थीं, फिर सफाई दी, आपने टिकट दिया, जीत गईं और आपकी सपोर्ट से ही जीती हैं, उन्हें कोई जानता नहीं था, फिर आपने उन्हें समिति में शामिल कर दिया, प्रधानमंत्री ने कहा था कि मैं उन्हें दिल से माफ नहीं कर सकता, फिर भी सलाहकार समिति में ले आए…..”

विज्ञापन