बंगलोर: सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश ने पत्रकार गौरी लंकेश की पहली पुण्यतिथि पर सनातन संस्था पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। अग्निवेश ने कहा कि जिस संस्था में बम तैयार करने का प्रशिक्षण दिया जाता है, ऐसी संस्था को धार्मिक संस्था कैसे कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि सनातन संस्था पर तुरंत प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए।

स्वामी अग्निवेश ने कहा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के इशारे में पर नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार दलित तथा शोषितों के पक्ष में खड़े विचारक तथा चिंतकों को जानबूझ कर निशाना बना रही है। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी संघ के प्रचारक रहे हैं और आरएसएस अपना एजेंडा देश पर थोप रहा है।

उन्होंने कहा कि देश में यह हालात हैं कि किसी को सच्चाई या हक की बात कहने का अधिकार नहीं है। कोई ऐसा करता है तो उसकी हत्या कर दी जाती है। गोरक्षा के नाम पर निर्दोषों को मारा जा रहा है। नागरिकों को अपनी पसन्द का भोजन करने का अधिकार तक नहीं है। जनप्रतिनिधि दलितों का अत्याचार करते हैं तो उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाता, बल्कि शिकायत करने वालों को ही गिरफ्तार किया जाता है।

sana

इसी बीच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने तर्कवादी नरेंद्र दाभोलकर हत्या मामले में अमोल काले को हिरासत में लिया है। अमोल पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड मामले में प्रमुख आरोपी है। अधिकारी ने बताया कि सीबीआई को आशंका है कि अमोल दाभोलकर की हत्या का मास्टरमाइंड हो सकता है। अमोल को कर्नाटक पुलिस के विशेष जांच दल ने लंकेश हत्या मामले में इस साल मई में गिरफ्तार किया था।

अमोल को पुणे जिले की अदालत में पेश किया जाएगा। मालूम हो कि दाभोलकर की 20 अगस्त 2013 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जबकि गौरी लंकेश की 5 सितंबर 2017 को उनके घर के बाहर हत्या कर दी गई थी।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें