3 1533865913

लगातार कई छापेमारी के बाद महाराष्ट्र एंटी टेररिज्म स्क्वॉड (ATS) ने नालासोपारा और सतारा से सनातन संस्था के आतंकियों को गिरफ्तार किया है। इन तीन आतंकियों को भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री के साथ गिरफ्तार किया है। इनके पास से जिंदा बम और भारी मात्रा में बम बनाने का सामान मिला है।

एटीएस ने अब तक तीन लोगो को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी वैभव राउत, शरद कलस्कर, सुधन्वा को 18 अगस्त तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। ये सभी सनातन संस्था के सक्रिय कार्यकर्ता है। साथ ही कई हिन्दू संगठनों से भी जुड़े है।

एटीएस का कहना है कि ‘वो कुछ भयावह करने की तैयारी में थे। उनके पास से बरामद बम इस्तेमाल करने के लिए तैयार थे। 15 अगस्त और बकरीद से पहले इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक बरामद होना बड़ी चिंता की बात है। हमारी जांच अब इतने सारे बम इक्ट्ठा करने के मकसद पर केंद्रित है। क्या वो एक समन्वित हमले की योजना बना रहे थे या उन्हें किसने प्रशिक्षित किया था।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एटीएस का दावा है कि वैभव राउत के मुंबई में नालासोपारा स्थित घर से 22 क्रूड बम और जिलेटिन स्टिक्स मिली हैं। वो ये भी दावा कर रहे हैं कि तीनों संदिग्ध एक-दूसरे के संपर्क में थे। एटीएस ने अदालत को बताया कि उन्हें यह सूचना मिली थी कि कुछ अज्ञात लोग पुणे, सतारा, नालासोपारा और मुंबई में चरमपंथी गतिविधियों को अंजाम दे सकते हैं। इसी के मद्देनज़र एटीएस ने तफ़्तीश की और तीन लोगों पर मुक़दमा दर्ज किया गया।

एटीएस के मुताबिक उन्होंने 20 कच्चे बम और दो जिलैटिन स्टिक्स सहित कुल 22 विस्फोटक बरामद किए हैं। इसके अलावा एक नोट बरामद किया है, जिसमें बम बनाने की तकनीक का ब्योरा लिखा है। एक छह वॉल्ट की बैटरी, लूस वायर, ट्रांजिस्टर और गोंद भी बरामद किया गया है।

दूसरी और विधान सभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण पाटिल ने सनातन संस्था और हिंदू जनजागृति समिति पर पाबंदी लगाने की मांग की है। विखे पाटिल के मुताबिक आनेवाली बकरी ईद पर राज्य के धार्मिक स्थलों पर बम विस्फोट कराए जाने की साजिश रची जा रही थी। नालासोपारा में विस्फोटक मिलने से यह बात पूरी तरह से स्पष्ट हो गई है। सनातन और हिंदू जनजागृति समिति जैसी विघातक संगठनों पर पाबंदी लगाई जानी चाहिए।