मुंबई | मालेगांव विस्फोट केस में बम्बई हाई कोर्ट के जमानत देने के बाद जेल से बाहर आई साध्वी प्रज्ञा ने आज मीडिया से बात की. उन्होंने अपने आप को पूरी तरह निर्दोष बताते हुए पूर्व की यूपीए सरकार पर उनके खिलाफ षड्यंत्र रचने का आरोप लगाया. साध्वी ने भगवा आतंकवाद की थ्योरी को भी पूरी तरह नकारते हुए कहा की यह सब पूर्व वित्त मंत्री पी चिदम्बरम की देंन है.

गुरुवार को जेल से बाहर आने के बाद साध्वी प्रज्ञा ने पत्रकारों से बात की. उन्होंने सबसे पहले उन शहीद जवानों को श्रदांजली दी जो पिछले 9 सालो में किसी भी आतंकवादी घटना की वजह से मारे गए. इसके बाद उन्होंने कहा की मैं 9 साल बाद कांग्रेस सरकार के षड्यंत्र रूपी काले सागर और अन्याय सहकर जेल के बंधन से मुक्त हुई हूँ. हालाँकि अभी भी मेरा केस बम्बई हाई कोर्ट में चलेगा और मानसिक तौर पर अभी बंधन में रहूंगी.

भगवा आतंकवाद पर साध्वी ने कहा की शुरू शुरू में मुझे भी आतंकी कहा गया. लेकिन भगवा आतंकवाद मीडिया को भी पसंद नही आया. इस शब्द का प्रयोग पी चिदम्बरम ने किया था. भगवा आतंकवाद केवल कांग्रेस सरकार का षड्यंत्र था. इसे साबित करने के लिए एक कहानी रची गयी. लेकिन सिद्ध हो गया की भगवा आतंकवाद कुछ नही होता. साध्वी ने महाराष्ट्र एटीएस पर भी कई संगीन आरोप लगाए.

उन्होंने कहा की मुझे गैर क़ानूनी तरीके से गुजरात से महाराष्ट्र लाया गया था. यहं मुझे जेल में डाल दिया गया. 13 दिन तक मुझे अमानवीय प्रताड़ना दी गयी. एटीएस की प्रताड़ना से मेरे फेफड़ो की झिल्ली फट गयी. इसके लिए एटीएस प्रमुख और मुंबई हमलो में शहीद हुए हेमंत करकरे जिम्मेदार है. जितनी प्रताड़ना मुझे दी गयी इतनी गुलाम भारत में किसी महिला को भी प्रताड़ित नही किया गया.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें