2008 में मालेगांव में बम ब्लास्ट कर मुस्लिम समुदाय के लोगों को मौत के घाट उतारने की आरोपी साध्वी प्रज्ञा के जमानत पर बाहर आने के साथ ही उनके विवादित बयानों का सिलसिला फिर से शुरू हो चूका है.

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने देश की बहुसंख्यक हिन्दू आबादी को अल्पसंख्यक समुदाय का डर दिखाकर ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा करने को कहा है. उन्होंने कहा कि अगर आप लोग ज्यादा कुछ नहीं कर सकते तो बस बच्चे पैदा करो, उन्हें हम पाल लेंगे.

साध्वी ने कहा कि, ‘ये भगवा आपको आह्वाहन कर रहा है कि ये देश की आवश्यकता है संतान ज्यादा पैदा करो. ये मेरे कहने का विषय नहीं आपके विचार करने का विषय है. अगर एक प्रज्ञा सिंह को षड्यंत्र कर जेल में डाल कर उसे मार दिया जाएगा तो भी फर्क नहीं पड़ेगा अगर आप लोग कई प्रज्ञा सिंह खड़ी कर दो तो. मेरा आप लोगों से आग्रह है कि प्रज्ञा सिंह खड़ी करिए, शिवाजी महाराज खड़ा करिए या विवेकानंद खड़ा करिए, लेकिन कुछ तो करिए, कुछ तो संतान पैदा करिए. हम आपसे कहते हैं कि आप राष्ट्रभक्ति कीजिए लेकिन जब देश के लिए संतान की जरूरत हो तो संतान भी दीजिए. अगर आप लोग कुछ नहीं कर सकते तो बस इतना कर दीजिए कि बच्चे पैदा कर दीजिए उन्हें पाल हम लेंगे.’

साध्वी के बयान के सामने आने के साथ ही सोशल मीडिया पर एक नई बहस छिड़ गई है. जिसके बाद यूजर ने सवाल उठाना शुरू कर दिया है. एक यूजर ने सवाल उठाते हुए पूछा कि साध्वी जी क्या सभी को आतंकी बनाने का इरादा है. तो वहीँ दुसरे यूजर ने कहा, सभी जानते है कि अगर साध्वी जी बच्चों को पालेगी तो बड़ा होकर क्या बनेगा.

आप को बता दें कि इस मामले में सुनवाई कर रही विशेष अदालत ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की उस दलील को स्वीकार किया. जिसमे कहा गया था कि मालेगांव बम धमाका ‘हिंदू राष्ट्र’ बनाने के लिए किया गया था. कोर्ट ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित और अन्य आरोपियों पर मुकदमा चलाने का आदेश देते हुए कहा है कि वो एजेंसी की इस दलील को स्वीकार कर रही है कि वे एक ‘हिंदू राष्ट्र’ बनाना चाहते थे. धमाका दरअसल इसी लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में उठाया गया कदम था.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?