साधुओं ने की हिंदू राष्ट्र के लिए हथियार उठाने की अपील, पूर्व सेना प्रमुखों ने की आलोचना

हाल ही में यति नरसिंहानंद द्वारा 17 से 19 दिसंबर को आयोजित एक महासभा जोकि हरिद्वार के खड़खड़ी स्थित वेद निकेतन आश्रम में धर्म संसद के नाम पर हुई थी। लेकिन अब यह महासभा विवादों में आ गई है। आपको बता दें कि इसमें हथियार उठाने की बात कही गयी है।

इस महासभा से जुड़ा एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक इस मामले में वसीम रिजवी समेत कई लोगों को पर पुलिस ने FIR दर्ज कर ली है। इस महासभा में निरंजनी अखाड़ा महामंडलेश्वर अन्नपूर्णा मां और वसीम रिजवी के अलावा भाजपा नेता अश्विन उपाध्याय, समेत बिहार के धर्मदास महाराज, आनंद स्वरूप महाराज, सागर सिंधु महाराज, और स्वामी प्रेमानंद महाराज ने भाग लिया था।

लोगों ने सरकार से इस पर कार्रवाई करने की मांग की है। इस कार्यक्रम के बारे में एडमिरल अरुण प्रकाश अपने twitter हैंडल पर लिखते हैं कि, “इसे क्यों नहीं रोका जा रहा है? हमारे जवान दो मोर्चों पर दुश्मनों का सामना कर रहे हैं, क्या संप्रदायिक खूनी खेल खेलेंगे?

वह आगे कहते हैं कि, क्या हम घरेलू उत्तल पुथल और अंतरराष्ट्रीय कलंक चाहते हैं? क्या यह समझना मुश्किल है कि राष्ट्रीय एकता और एकता को नुकसान पहुंचाने वाली कोई भी चीज भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डाल दी है?”

विज्ञापन