लखनऊ 29 जून 2016। रिहाई मंच ने एनआईए द्वारा हैदराबाद में आतंकी संगठन आईएस से जुड़े मुस्लिम युवकों की गिरफ्तारी को मुसलमानों को बदनाम करने का एनआईए का ताजा नाटक करार दिया है। मंच ने कहा है कि मोदी की खुलती पोल और उनके खिलाफ बढ़ते जन आक्रोश से निपटने के लिए संघ परिवार और एनएसए अजित डोभाल एनआईए से ऐसी गिरफ्तारियां करा रहे हैं।

रिहाई मंच द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में मंच के महासचिव राजीव यादव ने कहा है कि कल देर रात जिस तरह हैदराबाद में एक दर्जन से अधिक मुस्लिम युवकों को आईएस का आतंकी बता कर पकड़ा गया वो रमजान के महीने में हिंदुओं को मुसलमानों से भयभीत करने की नीति का हिस्सा है क्योंकि इसी महीने में मुसलमान अपनी धार्मिक पहचान के साथ सबसे ज्यादा संगठित रूम में दिखता है। जिसका मकसद मोदी सरकार के खिलाफ बढ़ रहे जनाक्रोश को मुसलमानों की तरफ भटकाना है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि एनआईए आतंकवाद से निपटने के बजाए आतंकवाद के नाम पर बेगुनाहों को फंसाने वाली एजेंसी की भूमिका में आ गई है। जिसका मकसद बेगुनाह मुस्लिम युवकों को फंसाना और संघ परिवार से जुड़े आतंकवादियों के खिलाफ सुबूतों को नष्ट और कमजोर करना और रोहिणी सैलियन जैसे पब्लिक प्रोस्क्यिूटरों पर दबाव डाल कर संघी अतांकियांे को जमानत दिलवाना रह गया है।