विवादित रफ़ाल लड़ाकू विमानों के सौदे पर रिपोर्ट दिखाने को लेकर अनिल अंबानी के रिलायंस ग्रुप ने अहमदाबाद की एक अदालत में एनडीटीवी पर 10 हजार करोड़ रुपये का मुकदमा ठोका है। इस पर 26 अक्टूबर को सुनवाई होनी है।

यह केस एनडीटीवी के साप्ताहिक शो ट्रुथ वर्सेज हाइप के खिलाफ दायर किया गया है, जोकि 29 सितंबर को प्रसारित हुआ था। उधर, एनडीटीवी ने कहा है कि अनिल अंबानी की कंपनी दबाव बनाकर मीडिया को उसका काम करने से रोक रही है। एक रक्षा सौदे के बारे में सवाल पूछने और उनके जवाब चाहने का काम, जो बड़े जनहित का काम है।

एनडीटीवी की वेबसाइट पर इस मामले पर प्रकाशित खबर के मुताबिक, रिलायंस के आला अधिकारियों से बार-बार, लगातार और लिखित अनुरोध किया गया कि वे कार्यक्रम में शामिल हों या उस बात पर प्रतिक्रिया दें जिस पर भारत में ही नहीं फ्रांस में भी बड़े पैमाने पर चर्चा हो रही है – कि क्या अनिल अंबानी के रिलायंस को पारदर्शी तौर पर उस सौदे में दसॉ के साझेदार के तौर पर चुना गया जिसमें भारत को 36 लड़ाकू विमान ख़रीदने हैं – लेकिन उन्होंने इसे नज़रअंदाज़ किया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

साथ ही ये भी कहा गया कि एनडीटीवी पूरी तरह मानहानि के आरोपों को ख़ारिज करता है और अपने पक्ष के समर्थन में अदालत में सामग्री पेश करेगा। एक समाचार-संगठन के तौर पर, हम ऐसी स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए प्रतिबद्ध हैं जो सच को सामने लाती है।

वहीं दूसरी और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भी एनडीटीवी को कथित रूप से विदेशी विनिमय कानून (फेमा) के उल्लंघन के आरोप में कारण बताओ नोटिस जारी किया है। यह मामला करीब 4,000 करोड़ रुपये का बताया जा रहा है।

ईडी ने गुरुवार को कहा, ‘जांच में एनडीटीवी द्वारा 1,637 करोड़ रुपये के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में विदेशी विनिमय प्रबंधन कानून (फेमा) के उल्लंघन का मामला सामने आया है। इसके लिए एक अन्य मामला 2,732 करोड़ रुपये के विदेशी निवेश का है।’ फेमा के तहत एनडीटीवी के संस्थापक और सह चेयरपर्सन प्रणय रॉय और राधिका रॉय, पत्रकार विक्रम चंद्रा और कुछ अन्य को नोटिस जारी किया गया है।

ईडी का दूसरा नोटिस एनडीटीवी द्वारा विदेशों में किए गए 582 करोड़ रुपये के निवेश से संबंधित है। इसमें फेमा के प्रावधानों का उल्लंघन हुआ। बाकी 2,414 करोड़ रुपये का उल्लंघन रिजर्व बैंक को आवश्यक सूचनाएं देने में देरी से जुड़े हैं। कंपनी के ऊपर फेमा उल्लंघन का कुल मामला 4,369 करोड़ रुपये का है।

Loading...