नई दिल्ली. गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के दौरान लाल किले से मीनार के बेशकीमती कलश गायब होने का मामला सामने आया है।  केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने इस बात की जानकारी दी।

पटेल ने दिल्ली पुलिस को खोजने के निर्देश दिए हैं। मंत्री ने उम्मीद जताई है कि पुलिस जल्द अवशेषों को बरामद करेगी। कलश लाल किले के निर्माण के समय के बताए जाते हैं। उन्होने बताया कि तिरंगा फहराने की जगह के करीब स्थापित किए गए दो ऐतिहासिक पीतल के कलश गायब हैं। किले का मुख्य दरवाजा भी क्षतिग्रस्त हुआ है।

पटेल ने कहा क्षतिग्रस्त हुई कलाकृतियां बेहद अमूल्य थीं। कितना भी पैसा खर्चकर इनकी भरपाई मुमकिन नहीं। उन्होने बताया, “लालकिले के बाहर लाइट के जितने भी इंस्ट्रूमेंट थे उन्हें तोड़ दिया गया है। पहली मंजिल पर इंटरप्रिटेशन सेंटर बन रहा था, जिसके 6-7 ब्लॉक्स को नष्ट कर दिया गया है।”

केंद्रीय संस्‍कृति और पर्यटन मंत्री प्रहलाद पटेल ने बताया कि हिंसा के कारण हुए नुकसान की रिपोर्ट गृह मंत्रालय और भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण (ASI) को सौंपी गई है और इस बारे में FIR दर्ज कराई जाएगी।

हालांकि इनमें जो बड़े नुकसान हुए हैं, उनमें वहां का गेट, पूरे परिसर का लाइट सिस्टम, पहले तल पर निर्माणाधीन व्याख्या सेंटर (उसके करीब सात-आठ ब्लाक को पूरी तरह से तोड़ दिया गया है) के अलावा टिकट काउंटर आदि शामिल हैं।