Tuesday, July 27, 2021

 

 

 

पाकिस्तानी समझ कर मा’रे गए 6 जवानों को वीरता पुरस्कार देने की सिफारिश

- Advertisement -
- Advertisement -

पाकिस्तान में घुसकर एयरस्ट्राइक करने के अगले दिन वायुसेना ने गलती से अपने ही एक हेलीकॉप्टर को मार गिराया था। जिसमे एयरफोर्स के छह अधिकारियों की मौ*त हो गई थी।

जांच में खुलासा हुआ है कि यह गफलत हेलीकॉप्टर को पाकिस्तान का मानव रहित विमान (यूएवी) समझने की वजह से हुई। ऐसे में उस हादसे में जान गंवाने वाले 6 जवानों वीरता पुरस्कार देने की सिफारिश की गई है।

जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि यह भ्रम हेलीकॉप्टर को पाक यूएवी समझने के कारण हुआ। इसके पीछे कई कारण थे। मित्र एवं शत्रु वायुयान की पहचान करने वाली प्रणाली हेलीकॉप्टर में या तो बंद था या काम नहीं कर रहा था जिस कारण राडार पर इसे पहचाना नहीं जा सका।

जाचं रिपोर्ट के अनुसार, हेलीकॉप्टर ने करीब दस बजे सामान्य अभियान के तहत उड़ान भरी थी लेकिन इसे थोड़ी ही देर में वापस बुला लिया गया। जब यह वापस एयरबेस की तरफ लौट रहा था तब इस पर मिसाइल दागी गई।

टेलीग्राफ की खबर के अनुसार रक्षा मंत्रालय के दो अधिकारियों के अनुसार इस तरह की सिफारिश असामान्य है क्योंकि हादसे में मारे गए सैनिक अपने ही सेना के हमले में मा’रे गए थे। यह हादसा पूरी तरह से एयर ट्रैफिक कंट्रोल और जमीन पर मौजूद वरिष्ठ अधिकारियों में तालमेल कारण हुआ था।

हाल में वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने कहा था कि यह वायुसेना की बहुत बड़ी गलती थी। उन्होंने यह भी कहा था कि मारे गए  सभी कार्मिकों को युद्ध संबंधी लाभ दिए जाएंगे। समझा जाता है कि उसके बाद ही वायुसेना ने यह कदम उठाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles