भीम आर्मी ने SC के खिलाफ निकाला मार्च, चंद्रशेखर आजाद भी हुए शामिल

प्रोन्नति में आरक्षण (Reservation In Pormotion) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले के विरोध में भीम आर्मी (Bheem Army) ने मंडी हाउस से संसद तक मार्च निकाला। ये मार्च भीम आर्मी (Bheem Army) प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrasekhar Azad) के नेतृत्व में निकाला गया।

इस मौके पर चंद्रशेखर ने 23 फरवरी को ‘भारत बंद’ बुलाने का ऐलान करते हुआ कहा कि आरक्षण हमारा ​मौलिक अधिकार है, इसको हमसे कोई नहीं ​छीन सकता। सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हम विरोध करते हैं। 23 तारीख को हमारा भारत बंद है, CAA और NRC जैसे काले कानून देश में नहीं चलेंगे। जब तक हमारे अधिकार नहीं मिलेंगे, ये प्रदर्शन जारी रहेगा।

गौरतलब है कि पिछले दिनों सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड से जुड़े एक मामले की सुनवाई करते हुए कहा था कि प्रमोशन में आरक्षण या कोटा मौलिक अधिकार नहीं है। आरक्षण व्यवस्था को बहाल करना राज्य सरकारों के क्षेत्राधिकार में है।

पिछले दिनों दिल्ली में मीडिया से बातचीत में नेता चंद्रशेखर ने आरोप लगाया था कि केंद्र में सत्तासीन भाजपा सरकार आरक्षण छीनने का प्रयास कर रही है।  तभी चंद्रशेखर ने एलान किया था कि आरक्षण बचाओ, संविधान बचाओ के नाम से आंदोलन शुरू किया जाएगा।

वहीं बीएसपी चीफ मायावती भी आरक्षण को लेकर केंद्र सरकार पर हम’लावर हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के लगातार उपेक्षित रवैये के कारण यहां सदियों से पिछड़े अनुसूचित जाति , अनुसूचित जनजाति और ओबीसी समुदाय के शोषितों-पीड़ितों को मुख्यधारा में लाने का काम नाकाम हो रहा है। उन्होंने कहा कि इन लोगों की वजह से आरक्षण के माध्यम से देश की मुख्यधारा में लाने का सकारात्मक संवैधानिक प्रयास पिछड़ रहा है।

विज्ञापन