Wednesday, June 23, 2021

 

 

 

‘खाना काबा और मदीना मुनवरा आलम ए इस्लाम का मरकज, सऊदी हुकूमत की जागीर नहीं’

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई: रमजान के आखिरी शुक्रवार को फिलिस्तीन और मस्जिद अल अक्सा के समर्थन में मनाए जाने वाले यौम उल कुद्द्स को लेकर रज़ा एकेडमी के संस्थापक अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी ने सऊदी हुकूमत को मदीना मुनवरा के हाइवे पर लगे ‘ओन्ली मुस्लिम’ के साईन बोर्ड को हटाये जाने को लेकर कड़ी आलोचना की है। उन्होने कहा कि खाना काबा और मदीना मुनवरा आलम ए इस्लाम का मरकज है। यह सऊदी हुकूमत की जागीर नहीं है।

उन्होने कहा कि सऊदी हुकूमत विजन 2030 के बहाने जायोनियों और सलीबियों के इशारों पर इस्लाम को मिटाने और हरमीन शरीफ़ीन के तकद्दूस को पामाल करने पर उतर आई है। शराब खाने, डांस क्लब, फेशन शो, के बाद अब हरम शरीफ की हुदूद में गैर-मुस्लिमों को जाने की इजाजत दी जा रही है। जहां सिर्फ मोमिन ही दाखिल हो सकता है। इसके लिए मदीना मुनवरा के हाइवे पर लगे ‘ओन्ली मुस्लिम’ के साईन बोर्ड को हटाया गया।

सईद नूरी साहब ने कहा कि आले सऊद की और से यहूदियों और नसारा के लिए हरमीन शरीफ़ीन के दरवाजे खोल देने की नापाक साजिश की जा रही है। उन्होने कहा कि हरमीन शरीफ़ीन दुनिया भर के मुसलमानों का मरकज है। यह मुहम्मद बिन सलमान के बाप की जागीर नहीं। हरमीन शरीफ़ीन की अजमत और हुरमत का ख्याल नहीं रखा गया तो रज़ा एकेडमी दुनिया भर के मुसलमानों के साथ मिलकर एहतजाज करेगी।

रज़ा एकेडमी प्रमुख नूरी साहब ने दुनिया भर के मुसलमानो  को चेतावनी देते हुए कहा कि आज आले सऊद ने मदीना मुनवरा के हाइवे पर लगे ‘ओन्ली मुस्लिम’ के साईन बोर्ड को हटाया लेकिन इनकी नापाक साज़िशों से हुदूद ए हरम भी महफूज नहीं है। गैर-मुस्लिमों को प्रवेश देकर हुदूद ए हरम को भी पामाल किया जा सकता है। उन्होने आने वाले जुमे को यौम उल कुद्द्स के अपनी मस्जिदो और खानकाहों में मस्जिद ए अक्सा और हरमीन शरीफ़ीन के तकद्दूस के लिए दुआ करने की भी बात कही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles