Monday, May 17, 2021

पैगंबर ए इस्लाम की शान में गुस्ताखियां नाकाबिल ए बर्दाश्त, सरकार लाए कानून: रज़ा एकेडमी

- Advertisement -

मुंबई: पैगंबर ए इस्लाम (ﷺ) की शान में रही गुस्ताखियों पर सख्त कदम उठाने को लेकर रज़ा एकेडमी ने मंगलवार को अपने कार्यालय में अधिवक्ताओं, कार्यकर्ताओ और समाजसेवियों की महत्वपूर्ण बैठक ली। जिसमे गुस्ताखों के खिलाफ कार्रवाई के लिए केंद्र और राज्य सरकार से कानून लाने की मांग पर जोर दिया गया।

रज़ा एकेडमी के संस्थापक अल्हाज सईद नूरी साहब ने कहा कि भारतीय दंड संहिता (आईपीसी)  में 153A और 295 धर्मों के अपमान के खिलाफ सख्त कार्रवाई के लिए है। बावजूद इस्लाम धर्म और उनके महापुरुषों के खिलाफ असामाजिक तत्वों की और से लगातार ऐसे बयान दिये जाते है। जो मुसलमानों की धार्मिक भावनाओं को आहत करते है। ऐसे लोगों में कानून का कोई डर ही नहीं है। ऐसे लोगो के खिलाफ अब केंद्र और राज्य सरकार एक सख्त कानून लाए। जिससे दोषियों को कड़ी सज़ा दिलाई जा सके।

बैठक को संबोधित करते हुए डॉ रईस अहमद रिजवी ने कहा कि नबी ए पाक (ﷺ) की इज्जत और नामूस के लिए हर समय बेदार रहना होगा। कानूनी जद्दोजहद के जरिये इन गुस्ताखियों पर काबू पाया जा सकता है। जिसके लिए सब्र को अपनाना होगा। बैठक में मालेगांव में नरसिंहानंद के खिलाफ दर्ज एफ़आईआर पर कारवाई की मांग उठी।

नरसिंहानंद के मामले में उपस्थित वकीलों ने कहा कि ये शख्स न केवल मुसलमानों का ही दुश्मन नहीं बल्कि देश का भी दुश्मन है। पैगंबर ए इस्लाम (ﷺ)  की शान में गुस्ताखी के साथ यह देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के खिलाफ भी अपमानजनक टिप्पणी कर चुका है। इन लोगों को वह देशद्रोही बता चुका है। इसके खिलाफ देशद्रोह की धाराओं में भी एफ़आईआर दर्ज कराई जानी चाहिए।

बैठक के दौरान निर्णय हुआ कि रज़ा एकेडमी की हर जिला यूनिट राज्य सरकार को एक ज्ञापन प्रस्तुत करेगी। जिसमे मांग की जाएगी कि सरकार जल्द ही एक ऐसा कानून पारित करे जिसमे किसी भी धर्म और उनके महापुरुषों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी को संगीन अपराध घोषित किया जाए। इसके अलावा अपराधी को 10 साल तक की सज़ा मिले। ज्ञापन की प्रति विधायकों, सांसदों और राजनीतिक दलों के प्रमुखों तक पहुंचाई जाए।

एडवोकेट आजम खान ने कहा कि पैगंबर ए इस्लाम (ﷺ) की शान में तोहीन करने वालों के खिलाफ रज़ा एकेडमी और तहफ्फुज ए नामूस ए रिसालत बोर्ड के जरिये होने वाली कार्रवाई के लिए हम सभी वकील अपनी सेवाएं देने के लिए हर समय उपस्थित है। साथ ही हर जिले में बोर्ड की निगरानी में लीगल टीम गठित कर कानूनी कार्रवाई करेंगे।

इस मौके पर एडवोकेट जमाल नासिर, एडवोकेट अब्दुल रहमान, एडवोकेट जमील अहमद, एडवोकेट अब्दुल गफ्फार, एडवोकेट फहीम अख्तर मुनीर खान, एडवोकेट फरीदउद्दीन, एडवोकेट शाहबूद्दीन, एडवोकेट जुबेर शेख, एडवोकेट मुहम्मद इसहाक युसुफ, एडवोकेट रियाज अतीक, एडवोकेट जुबेर, हाफ़िज़ शरीफ रजवी, हाफ़िज़ अनीसउररहमान रजवी, शहजाद सिद्दीकी, मुहम्मद इब्राहिम, राजू भाई, मुहम्मद अफजल गाजियानी, इम्तियाज़ खुर्शीद, गुलाम फरीद, दानिश रज़ा, हामिद रिजवी, और शकील अहमद सुबहानी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles