Monday, June 21, 2021

 

 

 

‘मुहम्मद द मेसेंजर ऑफ गॉड’ फिल्म को लेकर रज़ा एकडमी ने की पुलिस कमिशनर से शिकायत

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई: भारत में बैन विवादित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद द मेसेंजर ऑफ गॉड’ को भारत में वेबसाइटों पर अपलोड करने की कोशिशों की रज़ा एकेडमी ने बुधवार को मुंबई पुलिस से शिकायत की है। इस सबंध में रज़ा एकेडमी के एक प्रतिनधिमंडल ने सय्यद मोईन मियां साहब के नेतृत्व में मुंबई के एडिशनल कमिशनर ज्ञानेश्वर सिंह से मुलाक़ात की।

रज़ा एकेडमी के प्रमुख अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी साहब ने कहा कि सय्यद मोईन मियां साहब के नेतृत्व में रज़ा एकेडमी के एक प्रतिनधिमंडल ने एडिशनल कमिशनर को बताया कि कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा विवादित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद द मेसेंजर ऑफनूरी साहब ने  गॉड’ को भारत में विभिन्न वेबसाइटों पर अपलोड करने की कोशिश की जा रही है। ताकि देश की दूसरे सबसे बड़े आबादी वाले मुस्लिम समुदाय की भावनाओं को आहत किया जा सके।

रज़ा एकेडमी ने अपनी शिकायत में कहा कि पिछले दिनों भी इस फिल्म की वजह से पूरे मुंबई में माहौल तनावपूर्ण हो गया था। हालांकि रज़ा एकेडमी ने उस समय मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और तत्कालीन गृहमंत्री अनिल देशमुख से शिकायत कर फिल्म पर पाबंदी लगाने की मांग की थी। जिस पर राज्य सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिख फिल्म पर रोक लगाने का आग्रह किया था और फिल्म निर्माताओं ने ही भारत में फिल्म की रिलीज से अपने कदम वापस ले लिए थे।

उन्होने कहा कि एक बार फिर से इस विवादित फिल्म को भारत में दिखाने की कोशिश हो रही है। जिसके लिए विभिन्न वेबसाइट और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का सहारा लिया जा रहा है। जिससे न केवल मुंबई, बल्कि महाराष्ट्र और देश भर का शांतिपूर्ण माहौल तनावपूर्ण हो सकता है। उन्होने कहा कि कुछ लोग चाहते है कि फिल्म के विरोध में देश भर के मुसलमान महामारी के बीच सड़कों पर उतरे और नारेबाजी करे।

नूरी साहब ने कहा कि कोरोना महामारी से निपटने में राज्य की उद्धव सरकार ने बड़ी कमायाबी हासिल की है। जिसकी प्रशंसा खुद सर्वोच्च न्यायालय ने की और अन्य राज्यों को भी महाराष्ट्र का मॉडेल अपनाने को कहा। लेकिन उद्धव सरकार की छवि को खराब करने के लिए ये साजिश की जा रही है। जिससे कानून-प्रशासन की समस्या पैदा कर उद्धव सरकार को गोदी मीडिया के जरिए बदनाम किया जा सके।

उन्होने कहा कि मुंबई पुलिस तत्काल इस फिल्म को वेबसाईटों पर ब्लॉक कर दें और अपलोड करने वालों की गिरफ्तारी तत्काल सुनिश्चित करें। जिस पर एडिशनल कमिशनर ज्ञानेश्वर सिंह ने नूरी साहब को कार्रवाई का आश्वासन दिया और कहा कि ”आप ने इस गंभीर समस्या की और ध्यान दिलाया। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि इस महामारी के समय में समाज में किसी को जहर घोलने की इजाजत नहीं दी जाएगी। ऐसा करने वालों को किसी भी की रूप में बख्शा नहीं जाएगा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles