nad11

nad11

अयोध्या में बाबरी मस्जिद की जमीन राम मंदिर निर्माण के लिए देने की वकालत करने वाले मौलाना सलमान नदवी ने एक बार फिर से आर्ट ऑफ लिविंग के श्रीश्री रविशंकर से मुलाकात की. हालांकि मौलाना नदवी ने इससे पहले कहा था कि उन्हें भी अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार है.

लखनऊ में बुधवार को ही इस मुलाक़ात के दौरान भी कोई हल नहीं निकल सका है. मामले पर अगली मीटिंग भी लखनऊ में ही 28 मार्च को होगी. बता दें कि श्रीश्री रविशंकर पहले ही साफ़ कर चुके है कि विवादित जमीन पर सिर्फ राम मंदिर निर्माण ही होगा. यानि मुस्लिमों को समझौते के नाम पर जमीन से दावा छोड़ना होगा.

उल्लेखनीय है कि मौलाना सलमान नदवी को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने पहले ही बाहर का रास्ता दिखा दिया है. AIMPLB का कहना है कि वह अपने पुराने रुख पर कायम रहेगा, जिसके अनुसार, मस्जिद को न तो गिफ्ट किया जा सकता है, न बेचा जा सकता है और न शिफ्ट किया जा सकता है.

वहीँ नदवी का कहना है कि हंबली मसलक के मुताबिक, मस्जिद दूसरी शिफ्ट की जा सकती है. हम मस्जिद में बुत नहीं रख रहे, बल्कि मस्जिद शिफ्ट करने की बात कर रहे हैं. ये देश और मुसलमानों के हित में है.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें