मुंबई | उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के एंटी रोमियो स्क्वाड पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है. ज्यादातर लोगो को इस स्क्वाड के नाम से परेशानी हो रही है. प्रशांत भूषण के बाद इस लिस्ट में निर्माता निर्देशक राम गोपाल वर्मा का नाम भी जुड़ गया है. रामगोपाल ने इस स्क्वाड को एंटी रोमियो कहने पर आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा की किसी गुंडे की तुलना रोमियो से करना गलत है.

अपनी फिल्मो से ज्यादा अपने ट्वीट के लिए सुर्खिया बटोरने वाले रामगोपाल वर्मा ने एंटी रोमियो स्क्वाड पर सवाल उठाते हुए कई सवाल किये. उन्होंने लिखा,’ मैं एंटी रोमियो स्क्वाड के बारे में सुनकर चक्र गया हूँ.. एक प्यार करने वाले सच्चे रोमियो की तुलना एक छेड़खानी करने वाले गुंडे के साथ कैसे की जा सकती है?’ रामगोपाल यही नही रुके उन्होंने इसके बाद भी कई ट्वीट किये.

उन्होंने अगले ट्वीट में प्रशांत भूषण वाली गलती करते हुए भगवान् कृष्ण को छेड़खानी करने वाला करार दे दिया. उन्होंने लिखा,’  यदि भारत में वह इन्हें एंटी रोमियो स्क्वाड कहते है तो क्या योगी आदित्यनाथ को यह अच्छा लगेगा की इटैलियन अपने देश में इसी स्क्वाड को एंटी कृष्णा स्क्वाड कहे?’ कुछ इस तरह की टिप्पणी प्रशांत भूषण ने भी की थी. उन्होंने लिखा था की क्या योगी अपने मुस्तैद दस्ते का नाम एंटी कृष्ण स्क्वाड रखेंगे.

रामगोपाल के इस ट्वीट पर हंगामा होने में देर नही लगी. लोगो ने जब उनके इस ट्वीट की आलोचना की तो उन्होंने अपनी गलती मानते हुए लिखा की मैं अपना पहले वाला ट्वीट वापिस लेता हूँ क्योकि यह तुलना गलत हो गयी. हाँ इसे ऐसे लिखा जा सकता है की क्या योगी को अच्छा लगेगा की इटैलियन इस दस्ते को एंटी देवदास स्क्वाड कहे?

राम्गोपाल ने इस दस्ते के नाम के पीछे के कारण को समझते हुए लिखा की शायद यह नाम आम बोल चल के लिए इस्तेमाल होने वाले शब्द रोड साइड रोमियो की उपज है. लेकिन सबको एक तराजू में तौलते हुए एक ही नाम रोमियो दे देने का उद्देश्य दुर्भावना के मकसद से उस नाम के मालिक की छवि को खराब करना है. इससे अच्छा इसका नाम एंटी ईव टीजर रखना ज्यादा उचित होगा.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें