पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को खुफिया जानकारी देने के आरोप में पुलिस द्वारा बुधवार देर शाम को उत्तराखंड के पिथौरागढ़ के डीडीहॉट इलाके से गिरफ्तार किये गए रमेश सिंह कान्याल को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है.

रमेश ने देश की ख़ुफ़िया जानकारी का पाकिस्तान के साथ लाखों में सौदा किया. एडीजी लॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार के अनुसार, रमेश कन्याल का भाई भारतीय सेना में तैनात है. कुछ साल पहले उसके भाई ने भारतीय सेना में तैनात एक ब्रिगेडियर के घर नौकरी पर लगवाया था. कुछ समय बाद ब्रिगेडियर की पाकिस्तान स्थित भारतीय दूतावास में पोस्टिंग हो गई.

घर के कामकाज में रमेश कन्याल अच्छा था, इसलिए ब्रिगेडियर उसे भी पाकिस्तान ले गए. आरोप है कि वहां रमेश पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के संपर्क में आ गया. इस दौरान वह सूचनाएं पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को देता रहा. कुमार ने बताया कि वह रमेश सिंह 2017 में भारत लौट आया. यहां लौटकर उसने करीब 8 लाख रुपये का अपना कर्ज चुकाया.

सुरक्षा एजेंसियों का कहना है कि पाकिस्तान में संदिग्ध गतिविधियों के चलते भारत आने पर रमेश पर नजर रखी जाने लगी. यहां आने के बाद भी वह पाक एजेंसी के संपर्क में था. इसी के चलते दो माह पूर्व यूपीएटीएस ने उसके खिलाफ भारत विरोधी गतिविधियों में संलिप्ता के आरोप में मुकदमा दर्ज किया था.

मंगलवार रात 11.30 बजे इंस्पेक्टर मंजीत सिंह के नेतृत्व में डीडीहाट पहुंची उत्तर प्रदेश एटीएस की टीम ने उसे डीडीहाट स्थित किराए के मकान से हिरासत में ले लिया. पूछताछ के बाद यूपीएटीएस उसे अपने साथ लखनऊ ले गई.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें