विभिन्न मुद्दों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी की मुखर आलोचना रहे इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने कांग्रेस और राहुल गांधी पर तंज कसा है। उन्होने कहा कि पाँचवीं पीढ़ी के वंशवादी राहुल के लिये भारतीय राजनीति में कोई जगह नहीं है।

गुहा का मानना है कि नेहरू-गाँधी परिवार मुगल सल्तनत की याद दिलाता है। जो अपनी ही जनता से बुरी तरह से कट गया है। उनका कहना है कि भारत अब ज्यादा लोकतांत्रिक देश हो गया है और सामंतवाद ख़त्म होता जा रहा है। लेकिन नेहरू-गाँधी परिवार को इसका एहसास ही नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘राहुल के पास कड़ी मेहनत करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने कोई मौका नहीं है। केरल ने भारत के लिए कई शानदार चीजें की हैं, लेकिन राहुल को चुनकर विनाशकारी काम किया।’’ गुहा ने कहा, “कांग्रेस का पतन हो चुका है। जो आजादी के दौर की महान पार्टी थी, अब एक बेकार पारिवारिक कंपनी बन चुकी है। इसी पार्टी की वजह से देश में हिंदुत्व और अंधराष्ट्रभक्ति का माहौल बना है।”

उन्होंने आगे कहा, “मेरी राहुल गांधी से कोई निजी दुश्मनी नहीं है। वे एक शिष्ट और सभ्य व्यक्ति हैं, लेकिन युवा भारत एक पांचवीं पीढ़ी के राजवंशी को नहीं चाहता। अगर मलयाली लोग 2024 में भी राहुल गांधी को चुनने का काम करते हैं, तो आप सिर्फ नरेंद्र मोदी को फायदा पहुंचा रहे हैं।’’

गुहा के मुताबिक, “नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा फायदा यह है कि वे राहुल गांधी नहीं हैं। मोदी ने खुद को बनाया है। उन्होंने एक राज्य 15 सालों तक चलाया, उनके पास अच्छा प्रशासनिक अनुभव है। वे कड़ी मेहनत करते हैं और कभी छुट्टी मनाने यूरोप नहीं जाते। विश्वास कीजिए, मैं यह सब गंभीरता से कह रहा हूं। अगर राहुल गांधी और ज्यादा समझदार हो भी जाएं, ज्यादा कड़ी मेहनत करने लगें, कभी यूरोप जाकर छुट्टियां न लें, फिर भी एक पांचवीं पीढ़ी के राजवंशी की तरह नुकसान में रहेंगे, क्योंकि वे खुद को खड़ा नहीं कर पाए।”

बता दें कि राहुल गाँधी 2019 के चुनाव में केरल की वायनाड सीट से चुनाव लड़ कर संसद पहुंचे हैं। उनके संसदीय क्षेत्र अमेठी में उन्हे बीजेपी सांसद स्मृति ईरानी से हार का सामना करना पड़ा है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन