राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने अयोध्या विवाद के सबंध में कहा कि विवादित स्थल पर केवल राम मंदिर का ही निर्माण होगा. इसके अलावा और किसी भी चीज का नहीं.

कर्नाटक के उडुपी में चल रहे धर्म संसद के दौरान भागवत ने कहा, ”राम जन्म भूमि पर राम मंदिर ही बनेगा और कुछ नहीं बनेगा, उन्हीं पत्थरों से बनेगा, उन्हीं की अगुवाई में बनेगा जो इसका झंडा लेकर पिछले 20-25 वर्षों से चल रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘हम इसका निर्माण करेंगे. ये कोई चुनावी घोषणा नहीं है बल्कि हमारी आस्था का विषय है.’

आरएसएस चीफ ने कहा कि राम मंदिर बनने से पहले लोगों में जागरूकता होनी जरूरी थी. हम मंजिल के बेहद करीब हैं और इस वक्त हमें और ज्यादा सचेत रहना है.

गोहत्या को लेकर भागवत ने कहा कि अगर गोहत्या पर बैन नहीं होगा, तो शांति भी नहीं होगी. हालांकि इस दौरान उन्होंने गौरक्षा के नाम पर हो रही हत्याओं पर कुछ नहीं कहा.

संघ प्रमुख का बयान ऐसे वक्त पर आया है जब इस मामले में 5 दिसंबर से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होने जा रही है. इसके साथ ही ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक रवि शंकर भी मध्यस्थता करने की पेशकश कर चुके है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?