विश्व हिन्दू परिषद (VHP) के नेता प्रवीण तोगड़िया ने अयोध्या विवाद पर कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण सोमनाथ मंदिर की तर्ज पर संसद से कानून बनाकर किया जाए.

तोगड़िया ने तीन पी का फार्मूला पेश करते हुए कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण तीन पी के जरिए संभव हैं. जिसमें प्रधानमंत्री, पार्लियामेंट और पीपुल यानि लोग हैं. आजादी के बाद सोमनाथ मंदिर का निर्माण सरदार पटेल, राजेंद्र प्रसाद, केएम मुंशी के बीच बातचीत के बाद शुरु हुआ था.

तोगड़िया ने यहां जीएम डीसी मैदान पर विहिप और बजरंग दल के संयुक्त हिन्दू सम्मेलन को संबोधित करते हुए 12 सूत्री मांगें भी केंद्र सरकार के सामने रखी. जिसमें से सभी नागरिकों को केवल एक पत्नी और दो बच्चों की अनुमति, समान कानून और समान नागरिक संहिता, अल्पसंख्यकों के तर्ज़ पर हिंदुओं के बच्चों को भी सरकार द्वारा मुफ्त शिक्षा और इस्लामी जिहाद से सुरक्षा के लिए हर जिले में आईपीएस स्तर के एक अधिकारी की नियुक्ति की मांग भी शामिल है.

उन्होंने कहा कि सरदार पटेल ने सोमनाथ मंदिर निर्माण के लिए मुसलमानों की दाढ़ी नहीं पकड़ी थी और न ही किसी टोपी वाले को गले लगाया था. इस समय केंद्र सरकार की सहमति से डंके की चोट पर मंदिर का निर्माण हो गई थी. ऐसा भी राम मंदिर के लिए किया जाना चाहिए और संसद में कानून के माध्यम से मंदिर बनाना ही एकमात्र रास्ता है. अगर ऐसा नहीं हुआ तो लोग अयोध्या कूच करेंगे. उन्होंने उपस्थित दर्शकों से इसके लिए नारे भी लगवाए.

राम मंदिर के मुद्दें पर विहिप 31 मई से 2 जून के बीच हरिद्वार में एक बैठक का आयोजन करने जा रही है. तोगड़िया ने कहा कि विहिप के जो कार्यकर्ता राम मंदिर के निर्माण की मांग कर रहे हैं वह देशभर में 5000 जगहों पर हैं और वह सभी 1 अप्रैल से 16 अप्रैल तक राम महोत्सव मनाएंगे.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?