big 457145 1494773946

पणजी । भाजपा के वरिष्ठ नेता और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने द्रोपदी को लेकर एक ऐसी टिप्पणी कर दी उनको सोशल मीडिया पर काफ़ी ट्रोल किया जाने लगा। उन्होंने द्रोपदी को पहली ‘फ़ेमिनिस्ट’ क़रार देते हुए कहा की उनकी हठ की वजह से 18 लाख लोगों की जान चली गयी। इसके अलावा राम माधव ने यह भी आरोप लगाया की द्रोपदी अपने किसी भी पति की नही सुनती थी।

पणजी में आयोजित इंडिक फेस्टिवल में बोलते हुए राम माधव ने उपरोक्त विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि द्रोपदी के पाँच पति थे लेकिन वह उनमें से किसी की नही सुनती थी। वो केवल भगवान कृष्ण की सुनती थी क्योंकि वह उनके सखा थे। लेकिन हम उन्हें स्वेच्छाचारी कभी नहीं कहते। वह दुनिया की पहली फ़ेमिनिस्ट महिला था। इसके अलावा उन्होंने महाभारत जैसे युद्द के लिए भी द्रोपदी को ज़िम्मेदार ठहराया।

उन्होंने कहा कि महाभारत जैसे युद्ध के पीछे द्रोपदी ही असल कारण थी। महाभारत में 18 लाख से ज़्यादा लोग मारे गए, इन सबकी मौत के पीछे द्रोपदी ही ज़िम्मेदार थी। उनके हठ की वजह से ही यह युद्ध हुआ। वह बेहद हठी थी इसलिए महाभारत को टाला नही जा सका। राम माधव के इस बयान पर सोशल मीडिया में कई प्रतिकूल प्रतिकिया मिली। कुछ लोगों ने उनकी प्रतिक्रिया को बेहूदा तक क़रार दिया।

एक यूज़र ने लिखा की कुछ दिनो बाद आप कहेंगे की अब आप कहोगे की भगवान गणेश, सर ट्रान्स्प्लैंट का सबसे पहला केस थे। एक अन्य यूज़र लिखते है की राम माधव ने दुनिया के सबसे बड़े युद्ध की जवाबदेही तय कर दी है। उनके अनुसार द्रोपदी इस युद्ध का कारण थी। एक दूसरा यूज़र लिखता है की द्रोपदी को पाँच पांडव के साथ शादी करने के लिए फ़ोर्स किया गया था। बताते चले की राम माधव आरएसएस की पृष्ठभूमि से आए है और भाजपा के सांसद है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano