चेन्नई | तमिलनाडु में जयललिता के निधन और करूणानिधि के पतन के बाद राजनितिक शून्य पैदा हो गया है. ऐसे में तमिलनाडु की जनता अपने सुपरस्टार रजनीकांत की तरफ आशा भरी नजरो से देख रही है. उनको उम्मीद है की उनका सुपरस्टार राजनीती में आयेगा और उनकी समस्याओ को हर लेगा. हालाँकि अभी तक रजनीकांत ने अधिकारिक तौर पर राजनीती में आने के बारे में कुछ नही कहा है.

लेकिन उनके ताजा बयानों से यह अटकले लगाई जा रही है की वो जल्द ही राजनितिक पारी की शुरुआत कर सकते है. उन्होंने कोड़ामबक्कम में एक कार्यक्रम के दौरान देश की मौजूदा व्यवस्था पर सवाल खड़े किये. उन्होंने कहा की फिलहाल देश की व्यवस्था में बदलाव की जरुरत है. उसके बाद ही देश अपनी सही राह पकड़ पायेगा. यही नही इस बदलाव को लोगो के दीमाग तक भी पहुँचाना होगा.

देश की दोनों राष्ट्रिय पार्टियों और उनके बड़े नेताओ की आलोचना करते हुए रजनीकांत ने कहा की देश के पास राष्ट्रिय दल और कई बड़े नेता है क्या करे जब सिस्टम की हालत ही ख़राब है ,लोकतंत्र धज्जिया उड़ रही है. उन्होंने आगे कहा की आप लोगो की तरह ही मेरी भी कुछ जिम्मेदारिया और काम है. चलो इनको करते है लेकिन जब हमले का समय होगा तो हमें मिलकर इसका सामना करना होगा.

रजनीकांत का यह बयान उस समय आया है जब यह अटकले लगाई जा रही है की वो राजनीती में एंट्री कर सकते है. फ़िलहाल तमिलनाडु में उनके अलावा ऐसी कोई शख्शियत नही दिखती जो जयललिता की तरह लोगो के दिलो दिमाग पर राज करे. वर्ष 1996 के चुनाव में तो वो जयललिता पर भी भरी पड़े थे. तब उन्होंने लोगो से जयललिता को हारने की मांग की थी. बाकी इतिहास गवाह है. उन चुनावों में जयललिता को करारी हार का सामना करना पड़ा था.




कोहराम न्यूज़ को लगातार चलाने में सहयोगी बनें, डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here

Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें