संसद के मानसून सत्र के चौथे दिन गुरुवार को भारत-चीन सीमा विवाद पर केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में बयान दिया। राजनाथ सिंह ने कहा कि दुनिया में ऐसी कोई ताकत नहीं है जो भारत को LAC पर पेट्रोलिंग करने से रोक सके।

पूर्व रक्षामंत्री और कांग्रेस नेता एके एंटनी के चीन द्वारा हमारी सेना को पेट्रोलिंग से रोकने के सवाल पर रक्षामंत्री ने कहा,  ‘झगड़ा ही इसी के लिए हुआ है। यह पारंपरिक है, अच्छी तरह परिभाषित है। भारत के सेना के जवानों को, पेट्रोलिंग करने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती। अगर हमारे जवानों ने बलिदान दिया है तो इसीलिए दिया है। इस पेट्रोलिंग पैटर्न में कोई परिवर्तन नहीं होगा यह भरोसा देता हूं।’

अपने बयान में उन्होने ये भी कहा ‘‘ चीन की गतिविधियों से पूरी तरह से स्पष्ट है कि उसकी ‘कथनी और करनी’ में अंतर है। क्योंकि जब बातचीत चल रही थी तब उसने यथास्थिति को बदलने का प्रयास किया जिसे हमारे सैन्य बलों ने विफल कर दिया।’’

उन्होंने कहा, ‘हम पूर्वी लद्दाख में चुनौती का सामना कर रहे हैं, लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं है कि हमारे वीर जवान इस चुनौती पर खरे उतरेंगे। हम मुद्दे को शांतिपूर्ण ढंग से हल करना चाहते हैं और हम देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को लेकर पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं।’

रक्षा मंत्री ने कहा, ”भारत हर क़दम उठाने को तैयार है और सेना की पूरी तैयारी है। हमारे जवानों का हौसला बुलंद है। ये सच है कि लद्दाख में हम एक चुनौती से जूझ रहे हैं लेकिन हम चुनौती का सामना करेंगे। हम देश का माथा झुकने नहीं देंगे। हमारे जवान चीनी सेना से आँख से आँख मिलाकर खड़े हैं और सदन से उन्हें इसी हौसला को बढ़ाने का संदेश देना चाहिए।”

इस दौरान कांग्रेस नेता गुलामनबी आजाद ने कहा कि ”हम सरकार के साथ हैं। मैं अपनी पार्टी की ओर से कहना चाहूंगा कि हम सरकार के साथ खड़े हैं। लेकिन अप्रैल से पहले हमारी जो जमीन थी हमें वह वापस चाहिए।”

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano