पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के मामले में दोषी करार दिए जा चुके एजी पेरारिवलन को 30 दिन की पैरोल दी गई है. ये पैरोल उसे अपने बीमार पिता से मिलने के लिए दी गई.

ध्यान रहे राजीव गांधी की 21 मई 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में एक सुसाइड बम के जरिए लिट्टे आतंकियों ने हत्या कर दी थी.

इस मामले में सातों लोगों को दोषी करार दिया गेया था जिनमे से पेरारिवलन , मुरुगन, शंतन, रॉबर्ट पायस, नलिनी, जय कुमार और रविचंद्रन जेल में हैं.

इस मामले की सुनवाई करने वाले टाडा कोर्ट ने एजी पेरारिवलन को टाडा कोर्ट ने दोषी मानते हुए फांसी की सजा सुनाई थी. हालाँकि दया याचिका के निपटारे में हुई देरी के आधार पर बाद में सुप्रीम कोर्ट ने उसकी फांसी को सजा को उम्र कैद में बदल दिया.

ऐसी खबरें हैं कि पूर्व एलटीटीई मेंबर मुरुगन उर्फ श्रीहरन पिछले कुछ दिनों से उपवास पर है. जेल प्रशासन ने 22 अगस्त को मुरुगन की भतीजी की मुलाकात की अपील नामंजूर कर दी थी.

पेरारीवालन को हर वक्त पुलिस सुरक्षा के जद में रखा जाएगा. पीएमके संस्थापक एस रामादास ने पेरारीवालन को परोल मिलने पर खुशी जताई है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?