नई दिल्ली । कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आजकल काफ़ी बदले बदले नज़र आ रहे है। वह मोदी सरकार और भाजपा के ख़िलाफ़ पहले से ज़्यादा आकर्मक होकर प्रहार कर रहे है। राहुल उन मुद्दों को हवा देने के काम कर रहे है जिनका सीधा सरोकार आम जनता के साथ है। चाहे किसान को फ़सल का सही दाम न मिलना हो या फिर देश में बढ़ती बेरोज़गारी। हर मुद्दे पर वह मोदी सरकार को लगातार घेर रहे है।

अपने नए हमले में उन्होंने मोदी सरकार की महत्त्वकांशी योजना ‘मेक इन इंडिया’ पर निशाना साधा है। उन्होंने इस योजना का मज़ाक़ उड़ाते हुए इसे ‘फेंक इन इंडिया’ क़रार दिया। राहुल ने गुरुवार को एक ट्वीट के ज़रिए एक ख़बर को साझा किया। इस ख़बर में बताया गया कि फ़िलहाल देश में ताज़ा निवेश पीछले 13 साल के नीचले स्तर पर है। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा,’ ‘लोगों, ‘फेक इन इंडिया प्रोग्राम’ के बारे में एक ताजा जानकारी।’

इस ट्वीट के साथ राहुल ने ‘फेकइनइंडिया’ हैशटैग भी लगाया। अपने ट्वीट के साथ जिस समाचार को उन्होंने शेयर किया उसमें दावा किया गया है कि फ़िलहाल भारत में ताज़ा निवेश अपने 13 साल के नीचले स्तर पर है। खबर में सेंटर फार मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी की परियोजनाओं पर निगाह रखने वाले आंकड़ों के हवाले से दावा किया कि भारतीय कंपनियों द्वारा 77 हजार करोड़ रुपये की नई परियोजनाओं की घोषणाएं की गई है।

ख़बर के अनुसार यह इसलिए हुआ है क्योंकि दिसंबर तिमाही में रुकी परियोजनाओं की संख्या बढ़ गयी है। बताते चले की नोट बंदी और जीएसटी के बाद भारत की अर्थव्यवस्था में काफ़ी गिरावट देखने को मिली है। देश की जीडीपी में दो फ़ीसदी की गिरावट हो चुकी है। हालाँकि पिछली तिमाही के आँकड़ो में जीडीपी में थोड़ी बढ़ोतरी देखने को मिली। अर्थव्यवस्था में हुई गिरावट के बाद विपक्षी दल लगातार मोदी सरकार पर निशाना साध रहे है।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?