स्वामी असीमानंद के खिलाफ पाकिस्तानी महिला ने खटखटाया हाई कोर्ट का दरवाजा

6:41 pm Published by:-Hindi News

एनआईए की विशेष अदालत द्वारा बहुचर्चित समझौता एक्सप्रेस ब’म ध’माके के मामले में बरी किए गए स्वामी असीमानंद और बाकी आरोपियों के खिलाफ एक पाकिस्तानी महिला ने पंजाब ऐंड हरियाणा हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

पाकिस्तान मूल की नागरिक राहिला वकील ने यूपी के एक रिश्तेदार के जरिए कोर्ट में यह याचिका लगाई है। राहिला वकील के पिता की 2007 में हुए इस ध’माके में मौ’त हो गई थी। बता दें कि इस ब्ला’स्ट में 68 लोगों की मौत हो गई थी।

राहिला ने अपने वकील मोमिन मलिक के माध्यम से हाई कोर्ट में अपील दाखिल की। मलिक ने शुक्रवार को कहा, ‘उनकी ओर से मैंने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की जिसमें हमने पंचकूला एनआईए अदालत द्वारा स्वामी असीमानंद और तीन अन्य को बरी किए जाने के फैसले को चुनौती दी है।

मलिक ने कहा कि राहिला वि’स्फोट में मारे गए पाकिस्तानी नागरिक मुहम्मद वकील की बेटी हैं। एआईए कोर्ट द्वारा आरोपियों को बरी किए जाने का पाकिस्तान में काफी विरोध हुआ था। ब्लास्ट में मारे गए लोगों के परिजन ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान से इस मामले को अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत में ले जाने की मांग की थी।

भारत और पाकिस्तान के बीच सप्ताह में दो दिन चलने वाली समझौता एक्सप्रेस में 18 फरवरी 2007 को धमा’का हुआ था। यह ट्रेन दिल्ली से अटारी जा रही थी। पानीपत के दीवाना स्टेशन के नजदीक अचानक इस ट्रेन में विस्फो’ट हो गया जिसमें 68 लोगों की मौ’त और 12 लोग घाय’ल हुए थे। धमाके में जान गंवाने वालों में अधिकतर पाकिस्तानी नागरिक थे।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें