आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने जर्व बैंक में अपने तीन साल के कार्यकाल को ‘बहुत ही अच्छा’ बताया हैं. उन्होंने कहा कि उनके बारे में आलोचकों के त्वरित टिप्पणियों का कोई महत्व नहीं है क्योंकि उन्होंने केंद्रीय बैंक के प्रमुख के रूप में कुछ उपयोगी योगदान किए हैं और उनका नतीजा अगले 5-6 साल में दिखेगा.

राजन ने अपनी कार्यकाल की आखिरी द्वैमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा पेश करते हुए यहां कहा, त्वरित निर्णय (टिप्पणी) आलोचकों की हो या प्रशंसकों की, उसका कोई खास महत्व नहीं है. महत्वपूर्ण यह है कि दीर्घकाल में देश की मजबूत तथा टिकाऊ वृद्धि, रोजगार सृजन और देश को मध्यम आय वर्ग के देशों की कोटि में पहुंचने में इन पहलों की कैसी भूमिका रही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा, ये चीजें आप अगले पांच-छह साल में लाभ के साथ ही देख सकेंगे और यह जान सकेंगे के कि ये उचित थीं या नहीं. हमारे विचार से परिस्थितियों के अनुरूप आरबीआई में हमने जो कदम उठाए हैं वे उचित थे और उचित हैं.’’

उन्होंने आगे कहा, लोगों की अलग-अलग राय हो सकती है, लेकिन हमें देखना है. खीर का स्वाद तो खाने से मिलता है. देखते हैं कि अगले पांच-छह साल में इसका क्या असर रहता है और तब हम राय बना सकेंगे कि यह अच्छा है या बुरा है.

Loading...