नई दिल्ली | रविवार को न्यूज़ वेबसाइट ‘द वायर’ की एक खबर ने पुरे राजनितिक महकमे में हलचल मचा दी. अपनी एक रिपोर्ट में वेबसाइट ने दावा किया की बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी के टर्न ओवर में एक साल के अन्दर 16 हजार गुणा वृद्धि हुई है. यह वृद्धि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री और अमित शाह के बीजेपी अध्यक्ष बनने के बाद दर्ज की गयी. जबकि कुछ साल पहले तक यह कंपनी घाटे में चल रही थी.

जैसे यह रिपोर्ट मीडिया में आई, बीजेपी में खलबली मच गयी. इसलिए उन्होंने अमित शाह के बेटे के बचाव के लिए रेल मंत्री पियूष गोयल को मैदान में उतरा. पियूष गोयल ने पूरी रिपोर्ट को ख़ारिज करते हुए कहा की यह सब अमित शाह जी की छवि को ख़राब करने का प्रयास है. इसलिए जय  शाह ने लेखक, संपादक और समाचार वेबसाइट के मालिकों के खिलाफ 100 करोड़ रुपये का आपराधिक और दीवानी मानहानि का मुकदमा दायर करने का निर्णय लिया है.

इस दौरान पियूष ने उलटे कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व पर ही सवाल दागने शुरू कर दिए. उन्होंने कहा की यह ‘पुरानी कांग्रेस शैली’ है. मैं चाहता हूं कि कांग्रेस भी स्पष्ट करे कि यदि उनके पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है, तो उन्हें गांधी परिवार के लेन-देन से संबंधित न्यायमूर्ति ढींगरा आयोग की रपट को रोकने के लिए अदालत में नहीं जाना चाहिए. ‘द वायर’ पर 100 करोड़ के मानहानि के मुक़दमे के बाद वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण सामने आये है.

उन्होंने ट्वीट कर बताया की वो ‘द वायर’ की तरफ से जय शाह द्वारा किये जाने वाले मानहानि का मुकदमा लड़ेंगे. इस दौरान उन्होंने हलके फुल्के अंदाज में कहा,’अदालत में जय शाह से उसके सुनहरे 50हजार ->80 करोड़ के ‘एग्री बिजनेस/स्‍टॉक ट्रेडिंग/विंड बिजनेस के बारे में क्रॉस एग्‍जामिन करने में मजा आएगा.’ प्रशांत भूषण के इस एलान के बाद सोशल मीडिया पर उनके इस कदम की काफी प्रशंसा हो रही है. एक यूजर लिखता है की द वायर के लिए स्‍टैंड लेने हेतु धन्‍यवाद. ईमानदार पत्रकारिता को जीवित रहने की जरूरत है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?