Thursday, June 17, 2021

 

 

 

नीता अंबानी को BHU में विजिटिंग प्रोफेसर बनाने के प्रस्ताव का हुआ विरोध

- Advertisement -
- Advertisement -

उद्योगपति मुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में विज़िटिंग प्रोफ़ेसर नियुक्त करने का विरोध हो रहा है। नीता अंबानी को विजिटिंग प्रोफेसर बनाने के प्रस्ताव के विरोध में विश्वविद्यालय के छात्र मंगलवार को धरने कुलपति आवास का घेराव कर पर बैठ गए।

दरअसल, विश्वविद्यालय के सामाजिक विज्ञान संकाय ने रिलायंस फ़ाउंडेशन को एक प्रस्ताव भेजकर नीता अंबानी को विश्वविद्यालय के महिला अध्ययन केंद्र में विज़िटिंग प्रोफ़ेसर के तौर पर जुड़ने को कहा था। सामाजिक विज्ञान संकाय के महिला अध्ययन केंद्र को तक़रीबन दो दशक पहले स्थापित किया गया था और यहां पर विज़िटिंग प्रोफ़ेसर के तीन पद हैं।

इस संकाय के डीन कौशल किशोर मिश्रा ने कहा, “ग्रैजुएशन और पोस्ट-ग्रैजुएशन कोर्स के अलावा महिला सशक्तीकरण के संबंध में हम अकादमिक और शोध कार्य करते हैं। परोपकारी उद्योगपतियों को विश्वविद्यालय से जोड़ने की पुरानी परंपरा के तहत हमने रिलायंस फ़ाउंडेशन को पत्र भेजकर पूछा था कि क्या नीता अंबानी महिला अध्ययन केंद्र में विज़िटिंग प्रोफ़ेसर के तौर पर शामिल हो सकती हैं ताकि हम उनके अनुभव का लाभ ले सकें। हमने ऐसा इसलिए किया क्योंकि रिलायंस फ़ाउंडेशन ने महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में बहुत काम किया है।

छात्रों का आरोप है कि इससे विश्वविद्यालय द्वारा “गलत उदाहरण” सैट किया जा रहा है। छात्रों का आरोप है कि विश्वविद्यालय के लोग सरकार के इशारे पर पूंजीपतियों के हाथ में इस विश्वविद्यालय को सौंपने की षड्यंत्र कर रहे हैं।

विरोध प्रदर्शन करने वाले छात्रों के समूह में शामिल एक रिसर्च स्कॉलर सुभम तिवारी ने कहा, “हम एक ग़लत उदाहरण पेश कर रहे हैं। अमीर व्यक्ति की पत्नी होना कोई उपलब्धि नहीं है और ये लोग हमारे लिए कोई मिसाल नहीं हो सकते। अगर आपको महिला सशक्तीकरण के बारे में बात करनी है तो आप अरुणिमा सिन्हा, बछेंद्री पाल, मैरी कॉम या फिर किरण बेदी को बुलाइए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles