नई दिल्लीः CAA के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद प्रदर्शनकारी हटने के लिए तैयार नहीं है। विरोध में शामिल महिलाओं ने कहा कि पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस कानून को वापस लें, उसी के बाद वो हटेंगे। इसी बीच दिल्ली पुलिस प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए बातचीत का सहारा लेगी।

दरअसल, मंगलवार को हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को आदेश दिया था कि जनहित को ध्यान में रखकर कार्रवाई की जाए। वहीं कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से हटने की अपील की थी और रोड का एक हिस्सा स्कूली बच्चों के लिए खाली करने को कहा था।

बता दें कि बीते एक महीने से दिल्ली के शाहीन बाग में सैकड़ों महिलाएं और बच्चे नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ धरने पर बैठे हैं। ऐसे में दिल्ली में सरिता विहार से कालिंदी कुंज के बीच वाहनों की आवाजाही कई दिनों से बंद है।

इसी बीच महिलाओं के समर्थन में पहुंचीं ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक वूमन एसोसिएशन की दिल्ली उपाध्यक्ष कविता शर्मा ने कहा कि सरकार मुस्लिम महिलाओं की सुरक्षा और हक की बात करती है, लेकिन उसको पिछले एक महीने से सर्द रातों में सडकों पर बैठी महिलाएं नजर नहीं आतीं।

उन्होने कहा कि शाहीन बाग की औरतों ने कमाल किया है, देश भर की औरतों में मिसाल बनी हुई हैं। इनके अमल से जमशेदपुर और कलकत्ता में भी महिलाएं सड़कों पर हैं। सरकार ने सीएए खत्म नहीं किया तो शाहीन बाग देशभर में दिखेगा।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन