आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर के शनिवार को कश्मीर में आयोजित एक कार्यक्रम में जाकिर मूसा तथा कश्मीर की आजादी के नारे लगे.

विश्व प्रसिद्ध डल झील के किनारे स्थित शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर (एसकेआईसीसी) के लॉन में कड़ी सुरक्षा के बीच पैगाम-ए-मोहब्बत कार्यक्रम आयोजित किया गया था. इस कार्यक्रम में आजादी के नारे लगाना शुरू हो गए.

दरअसल, स्थानीय जनता को पाकिस्तानी राजनयिक के आने के बारें में सुचना दो गई थी. लेकिन जैसे ही रविशंकर का भाषण शुरू हुआ. कुछ मिनटों के भीतर जनता वहां से जाने लगी और उन्हें मजबूरन अपना भाषण बीच में ही रोकना पड़ा.

कुछ लोगों का कहना है कि उन्हें स्किल डेवलपमेंट के नाम पर एक हजार रुपये प्रति महीने दिए जाएंगे. यह कहकर लाया गया. लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ. वहीँ अन्य का कहना है कि किसी को किसान लोन माफ करने के नाम पर बहकाकर लाया गया.

बडगाम के अब्दुल रशीद ने बताया कि उन्हें कहा गया कि फॉर्म भरो, आपको प्रति माह 1000 रुपये दिए जाएंगे. मैं अपनी दिहाड़ी तोड़कर आया हूं. उसने वह फॉर्म भी दिखाए जो उससे स्किल डेवलपमेंट के तौर पर भरवाए गए थे जिस पर अकाउंट नंबर भी भरा गया था.

https://t.co/YdkQ6EbGeh

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?