शहीद पिंटू के भाई का भड़का सरकार पर गुस्सा, बोले – शहादत पर रैली को दी गई प्राथमिकता

पटना: जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में एन्काउंटर में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान पिंटू कुमार सिंह का पार्थिव शरीर जब पटना एयरपोर्ट लाया गया तो उनको श्रद्धांजलि देने के लिए NDA का कोई नेता नहीं पहुंचा। जबकि पीएम मोदी की अगुवाई रैली की तैयारियों को लेकर एनडीए के सभी बड़े नेता पटना में ही मौजूद थे। ऐसे में इस घटना पर शहीद पिंटू के भाई मिथिलेश कुमार ने दुख जताया।

मिथिलेश ने कहा, “रैली को महत्व दिया गया है। शहीद को तो बाद में भी देखा जा सकता है। मरने वाला तो मर गया। मंत्री जी को क्या लेना है? वो तो अपनी कुर्सी बचाने में लगे रहते हैं। मंत्री और मुख्यमंत्री एयरपोर्ट पर नहीं आए, इसी से तो पता चलता है कि हमारी सरकार सेना को कितना मदद कर रही है।” बता दें कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजधानी पटना में एक रैली को संबोधित किया। इस रैली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान सहित एनडीए के बड़े नेता मंच पर मौजूद रहे। रैली की शुरूआत में पीएम मोदी ने कहा, “बिहार के शहीदों को नमन करता हूं।”

पीएम मोदी के इस बयान पर राजद के राज्यसभा सांसद मनोज कुमार झा ने ट्वीट कर कहा, “जी हां! और एक बिहार के शहीद सपूत का पार्थिव शरीर टुकुर टुकुर इंतज़ार करता रहा कि सत्ता प्रतिष्ठान से कोई तो आएगा। मुल्क के शहीदों को अपनी गदली और संकीर्ण राजनीति में ना घसीटीए हुजूर।”

वहीं बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने पीएम मोदी और नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। तेजस्वी यादव ने कहा कि मोदी जी बिहार में शहीदों की चिता ठंडी भी नहीं हुई. आप अपनी निचले स्तर की राजनीति चमकाने बिहार आ रहे हैं। तेजस्वी ने पहला ट्वीट किया, ‘मोदी जी, बिहार में शहीदों की चिता ठंडी भी नहीं हुई। एक शहीद का पार्थिव शरीर भी बिहार नहीं आया है और आप अपनी निम्नस्तरीय राजनीति चमकाने बिहार की महान धरती पर आए है। बिहारी बहुत जागरूक है वो आपकी लफ्फाजी और जुमलेबाज़ी में फंसने वाले नहीं है। आपके पहले के वादों का क्या हुआ?’

उन्होने एक अन्य ट्वीट में कहा, “पटना में बीजेपी और नीतीश कुमार द्वारा आज शहीद पिंटू सिंह को श्रद्धांजलि नहीं देकर इन फर्जी राष्ट्रवादियों ने शहादत का अपमान किया है। यही फर्जी लोग सेना और जवानों के नाम पर टेसू बहायेंगे। संकल्प रैली में शहीदों को अपमानित करने का संकल्प लेंगे क्या?”

विज्ञापन