Saturday, October 23, 2021

 

 

 

‘मुस्लिम रेजिमेंट’ को लेकर फैलाए जा रहे झूठ पर राष्ट्रपति ने दिये जांच के आदेश

- Advertisement -
- Advertisement -

सोशल मीडिया पर ‘मुस्लिम रेजिमेंट’ को लेकर फैलाये जा रहे झूठ पर राष्ट्रपति ने रक्षा मंत्रालय को जांच के आदेश देते हुए कहा कि इस सबंध में शिकायकर्ताओं को सीधे जानकारी दी जाए।

दरअसल, बड़ी संख्या में सैन्य अधिकारियों को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की है। वायरल हो रही इस फर्जी पोस्ट में दावा किया गया कि 1965 के युद्ध में पाकिस्तान के खिलाफ ‘मुस्लिम रेजिमेंट’ ने लड़ने से इंकार कर दिया था।

राष्ट्रपति से रक्षा सचिव ने कहा गया कि “कृपया उचित ध्यान के लिए संलग्न/अग्रेषित करें, राष्ट्रपति/राष्ट्रपति के सचिवालय को संबोधित एक ईमेल याचिका जो स्व-व्याख्यात्मक है। याचिका पर कार्रवाई सीधे याचिकाकर्ता को सूचित की जा सकती है।“

राष्ट्रपति भवन के सूत्रों ने कहा कि राष्ट्रपति ने याचिका का संज्ञान लिया था। राष्ट्रपति को लिखे पत्र में कहा गया कि ऐसा कोई रेजिमेंट भारतीय सेना में कभी रहा ही नहीं।  यह झूठ 13 मई 2013 से फैलना शुरू हुए थे, अभी भी सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से फैले हुए हैं, जब देश पाकिस्तान और चीन दोनों के साथ सैन्य तनाव का सामना कर रहा है।

नौसेना के पूर्व प्रमुख एडमिरल एल रामदास और सशस्त्र बलों के 120 दिग्गजों द्वारा हस्ताक्षरित ये पत्र लेफ्टिनेंट जनरल एसए हसनैन (retd) द्वारा TOI में लिखे गए एक ब्लॉग को संदर्भित करता है, जिसमें कहा गया कि  यह फ़ेक न्यूज़ पाकिस्तानी सेना के साई ऑप्स ( मनोवैज्ञानिक ऑपरेशन) का हिस्सा हो सकता है।

उन्होने कहा, “हम यह बताना चाहते हैं कि भारतीय सेना में बहु-वर्ग रेजीमेंट के हिस्से के रूप में लड़ने वाले मुसलमानों ने हमारे राष्ट्र के लिए अपनी पूर्ण प्रतिबद्धता साबित की है।” इसमें 1965 के युद्ध में हवलदार अब्दुल हमीद (परमवीर चक्र), मेजर (बाद में लेफ्टिनेंट जनरल) मोहम्मद जकी और मेजर अब्दुल रफी खान (वीर चक्र) को सम्मानित किया गया।

इससे पहले भी, 1947 में विभाजन के दौरान, ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान ने भारतीय सेना में बने रहने का विकल्प चुना था जब उनकी बलूच रेजिमेंट जिन्ना द्वारा संपर्क किए जाने के बावजूद पाकिस्तान चली गई थी। ब्रिगेडियर उस्मान ने कश्मीर में पाकिस्तानी आक्रमण का मुकाबला किया और जुलाई 1948 में कार्रवाई में मारे गए सबसे वरिष्ठ अधिकारी थे। उन्हें मरणोपरांत उनकी वीरता के लिए महावीर चक्र से सम्मानित किया गया।

भारतीय सशस्त्र बलों के राजनीतिक और धर्मनिरपेक्ष लोकाचार की रक्षा करने की आवश्यकता को रेखांकित करते हुए, पत्र में कहा गया है कि इस मामले में “दृढ़ और तत्काल कार्रवाई” होनी चाहिए, साथ ही फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्मों को भी चेतावनी जारी की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा, “सभी राज्य सरकारों को तत्काल निर्देश जारी करें कि सोशल मीडिया में झूठे और देशद्रोही संदेशों की उत्पत्ति पर क्षीणता के साथ कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि राष्ट्रीय सुरक्षा खतरे में न पड़े।” “ मुस्लिम रेजिमेंट वाली सोशल मीडिया पोस्ट को सार्वजनिक डोमेन में रखा जाना हमारे सशस्त्र बलों के मनोबल पर एक घातक हमला है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles