Monday, July 26, 2021

 

 

 

मुस्लिम होने की वजह से नहीं किया प्रसूता को भर्ती, रास्ते में प्रसव व बच्चे ने तोड़ा दम

- Advertisement -
- Advertisement -

राजस्थान (Rajasthan) के भरतपुर (Bharatpur) में धर्म के आधार पर इलाज में भेदभाव का शर्मनाक मामला सामने आया है। मुस्लिम होने की वजह से डॉक्टर ने प्रसूता का इलाज करने से साफ इंकार कर दिया। जिसके बाद रास्ते में ही प्रसूता को प्रसव हो गया और इलाज के अभाव में बच्चे ने दम तोड़ दिया।

राजस्थान के पर्यटन व देवस्थान मंत्री विश्वेन्द्र सिंह के अनुसार उन्हें खबर मिली है कि भरतपुर जिले के गांव बेलानगर निवासी प्रवीणा पत्नी इरफान के प्रसव पीड़ा होने पर परिजन उसे सीकरी अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां से चिकित्सकों ने उसे भरतपुर के जनाना के अस्पताल में रैफर ​कर दिया।

उन्होने बताया कि जनाना अस्पताल भरतपुर में डॉ. मौनित वालिया ने महिला के मुस्लिम होने की वजह से अस्पताल में भर्ती करने से इनकार कर दिया और जयपुर जाने को कहा। इस पर परिजन प्रवीणा को लेकर जयपुर के लिए रवाना हो गए। जयपुर के रास्ते में गाड़ी में ही प्रवीणा के प्रसव हो गया, लेकिन नवजात की मौत हो गई।

उन्होने अपने ट्वीट में ये भी कहा, ताज्जुब की बात तो यह है कि राजस्थान के चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग भरतपुर शहर से विधायक हैं। भरतपुर जनाना अस्पताल का यह मामला बेहद शर्मनाक है। हमारी सरकार धर्म निरपेक्ष है। संवेदनशील है। निश्चित रूप से पूरे मामले से चिकित्सा मंत्री को अवगत करवाया जाएगा और चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

विश्वेन्द्र सिंह ने अपने ट्विटर पर वीडियो शेयर कहा कि वे लॉकडाउन के दौरान कामां समेत कई जगहों के दौरे पर हैं। इसी दौरान उन्हें सूचना मिली है कि एक प्रसूता के मुस्लिम होने पर अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया है। मामला गंभीर है। इसमें कार्रवाई करवाई जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles