prakash1

prakash1

लखनऊ । उत्तर प्रदेश में सरकार बदलते ही बस और इमारतों के रंग भी बदलने लगते है। बसपा की सरकार बनने पर दीवारों का रंग नीला तो समाजवादी पार्टी की सरकार बनने पर यह लाल हो जाता है। अब चूँकि यूपी में भाजपा की सरकार है तो स्वाभाविक है की सभी इमारतों और बसो को भगवा रंग में रंग जाना है। इसलिए पीछले 9 महीने के कार्यकाल में कई इमारतों और बसो का रंग भगवा किया जा चुका है।

इनमे मुख्यमंत्री कार्यालय जैसे भवन भी शामिल है। लेकिन हैरानी तब हुई जब उत्तर प्रदेश हज समिति के कार्यालय की बाहरी दीवारों का रंग भगवा कर दिया गया। इस पर काफ़ी विवाद होने के बाद्द वापिस दीवार को उसी रंग में रंग दिया गया जो पहले इस पर किया गया था। उधर प्रदेश में आलू किसान फ़सल का सही दाम न मिलने की वजह से परेशान है। इसलिए दो दिन पहले आलू किसानो ने राजभवन, विधानसभा और सीएम आवास के बाहर आलू फेंककर अपना विरोध दर्ज कराया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अब इसी मामले में फ़िल्म अभिनेता प्रकाश राज ने योगी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने एक ट्वीट के ज़रिए पूछा की क्या दीवारों का रंग बदलना ही विकास है? आलू किसानो की आवाज़ उठाते हुए उन्होंने कहा की उन आलू किसानो का क्या जो सामने आलू फेंक रहे है। प्रकाश राज ने ट्वीट कर योगी सरकार से पूछा,’ किसानों ने अपनी पीड़ा आपके आवास के सामने आलू फेंककर जाहिर की है। और आपके कृषि मंत्री कहते हैं, आलू अच्छी क्वालिटी के नहीं हैं, ये विरोध की राजनीति से प्रेरित है।’

प्रकाश राज आगे लिखते है,’ किसानों की पीड़ा को समझने का ये तरीका है। यदि दीवार का बदलता रंग विकास है तो क्या मि. विकास पेंटर हैं?’ बता दे की प्रकाश राज इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी पर भी निशाना साध चुके है। पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या पर प्रधानमंत्री की चुप्पी से नाराज़ उन्होंने तब कहा था कि मोदी मुझसे भी अच्छे अभिनेता है। इसके अलावा वह नोट बंदी जैसे फ़ैसलों को भी विरोध कर चुके है।

Loading...