नई दिल्ली | JNU में लगे हुए कश्मीर की आजादी वाले पोस्टर अभी तक नही हटाया गए है. प्रशासन अभी भी इसी उहापोह में है की वो इन पोस्टर को लगे रहने दे या हटवा दे. प्रशासन को डर है की पोस्टर को हटवाने से उन पर अभिव्यक्ति की आजादी का हनन करने का आरोप लग सकता है. हालंकि कुछ छात्र संगठन भी इन पोस्टर को हटाने का विरोध कर रहे है.

मिली जानकारी के अनुसार जेएनयु की सोशल साइंस विभाग की दीवारों पर कश्मीर की आजदी की मांग करते कुछ पोस्टर चिपकाए गए है. प्रशासन का कहना है की कल ही उनकी नजर इन पोस्टर पर लगी इसलिए कल ही हमने इन्हें हटाने के निर्देश दे दिए. लेकिन पूरा एक दिन बीत जाने के बाद भी ये पोस्टर अभी भी दीवारों पर लगे हुए है. ABVP ने पोस्टर नही हटवाने के मामले में यूनिवर्सिटी प्रशासन को आड़े हाथो लेते हुए कहा की यह उनकी विफलता को दर्शाता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उधर यूनिवर्सिटी के रेक्टर 1 चिंतामणि महापात्र ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बात करते हुए कहा की सुरक्षाकर्मियो ने इन पोस्टर्स को हटाने का प्रयास किया था लेकिन वो इसमें सफल नही हो पाए. हम दोबारा इसका प्रयास करेंगे. इसके अलावा DSU से भी हमारी बात चल रही है. वही JNUSU के अध्यक्ष मोहित पाण्डेय ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा की JNU में हर किसी को अपने विचार रखने की पूरी आजादी है.

मोहित पाण्डेय ने इन पोस्टर का मुद्दा उठाने पर सवाल उठाते हुए कहा की ये पोस्टर यूनिवर्सिटी में काफी दिनों से लगे हुए है लेकिन इस मुद्दे को अभी इसलिए उठाया गया ताकि UGC नोटिफिकेशन से लोगो का ध्यान भटकाया जा सके. लेकिन हम इसका विरोध करते रहेंगे. मालूम हो की JNU में DSU ने कश्मीर की आजादी के पोस्टर लगाए हुए है. इनमे लिखा है,’ कश्मीर को आजाद करो.. फिलिस्तीन को आजाद करो.. स्वनिर्णय का अधिकार जिंदाबाद’.

Loading...