Video: आर्मी पर हो रही राजनीति को शहीद जवान की बेटी ने बताया अपमानजनक

पुलवामा आतंकी हमले के बाद देश की सेना नेताओं के केंद्र बिन्दु में है। एक तरफ सेना के शोर्य का पार्टी विशेष की और से चुनाव जीतने का हथकंडा बना लिया गया है तो दूसरी और सेना पर उलूल-जुलूल बयान दिये जा रहे है। इसी बीच पुलवामा में हमले में शहीद जवान की बेटी ने इस राजनीति को अपमानजनक करार दिया।

सीआरपीएफ जवान की बेटी अपूर्वा ने कहा, “मेरे पिता मोदी या राहुल के लिए शहीद नहीं हुए। वे भारत के लिए शहीद हुए। क्या आप सैनिकों को घसीटे बिना चुनाव नहीं लड़ सकते हैं। एक बार चुनाव हो जाने पर आप हमें भूल जाएंगे। यह बात हमें अच्छी तरह से मालूम है।” अपूर्वा का यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

इससे पहले लवामा हमले के दौरान शहीद हुए सीआरपीएफ जवान कौशल कुमार रावत की पत्नी ममता रावत ने भी कहा कि “सेना को राजनीति में नहीं लाना चाहिए। हम नहीं चाहते कि नेता हमारे घर आएं।” वहीं, उनकी बेटी अपूर्वा ने कहा, “मैं सभी पार्टियों से यह कहना चाहूंगी की वे मिलिट्री को राजनीति में न घसीटें। आप उन लोगों पर ध्यान केंद्रित क्यों नहीं करते हैं जिनकी वजह से हमारे जवान शहीद हो रहे हैं। आज भाजपा की सरकार है तो ‘मोदी की सेना’। यदि कल को कांग्रेस की सरकार बनती है तो यह ‘राहुल की सेना’ हो जाएगी! भारत की सेना भारत के लोगों के लिए काम कर रही है।”

अपूर्वा ने आगे कहा, “मोदी जी भी भारतीय हैं और योगी जी भी। हमें राजनीति को लेकर अपनी सेना की आलोचना नहीं करनी चाहिए। यदि शहीद जवान जैसे उनके पिता या मेजर विभूति इस चीज को देख रहे होंते तो वे यह कहते कि मैंने अपनी शहादत इन लोगों के लिए नहीं दी। यदि ऐसा रहता, तो वे कभी अपनी जिंदगी कुर्बान नहीं करते। वे अपनी नौकरी से इस्तीफा दे देते और वापस घर लौट आते। परिवार के साथ रहते और इन चीजों को देखते। यदि आप सेना को राजनीति में घसीटते हैं तो पूरी तरह से उनका अपमान कर रहे हैं।”

बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक सभा में भारतीय सेना को ‘मोदी की सेना’ बताया था, जिसके बाद विपक्षी पार्टियों ने भाजपा को निशाने पर ले लिया था। इस बयान की कड़ी आलोचना की थी। इतना ही नहीं चुनाव आयोग ने भी योगी को चेतावनी दी थी।

विज्ञापन