Saturday, September 18, 2021

 

 

 

प्रधानमंत्री के लौटते ही यूपी के गाजीपुर में बवाल, पुलिसकर्मी की हुई लिंचिंग

- Advertisement -
- Advertisement -

गाजीपुर. उत्तरप्रदेश के गाजीपुर में आरक्षण की मांग कर रही भीड़ ने शनिवार शाम एक पुलिस वाहन पर पथराव कर दिया। इसमें एक सिपाही की मौ’त हो गई।

यह हादसा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के कुछ घंटों बाद हुआ। मामले में 32 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। इस महीने राज्य में यह दूसरा मामला है, जब भीड़ के हमले में पुलिसकर्मी की मौत हुई है। इससे पहले 3 दिसंबर को बुलंदशहर में गोह’त्या के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की गोली मारकर ह’त्या कर दी थी।

पत्थरबाजी में मारे गए पुलिसकर्मी के परिवार के लिए यूपी सरकार ने 50 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है। मुकेश वत्स की पत्नी को 40 लाख रुपये और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपये की सहायता दी जाएगी।

यहीं नहीं मुकेश की पत्नी को असाधारण पेंशन और परिवार के एक सदस्य को मृतक आश्रित के तौर पर सरकारी नौकरी देने का भी ऐलान किया गया है। परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी।

आपको बता दें कि निषाद समाज के लोग आरक्षण की मांग को लेकर जिले में कई जगहों पर धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। निषाद पार्टी के छत्रपति निषाद ने कहा, ‘हम निषादों के लिए आरक्षण की मांग कर रहे हैं  और अपने लोगों के बीच आरक्षण का संदेश फैला रहे हैं। इलाहाबाद से शुरू होकर, हम पूरे राज्य में प्रदर्शन करेंगे। 4 साल हो गए, लेकिन न तो पीएम और न ही सीएम ने निषादों की मांग पूरी की।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles