मुस्लिम युवक की दाढ़ी काटने और पेशाब पिलाने के मामले में पुलिस इंस्पेक्टर सस्पेंड

हाल ही में बेंगलुरु एक चौका देने वाला मामला सामने आया है जिसमें 23 वर्षीय तौसीफ पाशा को मा’रा पी’टा गया और उसे पेशाब पीने के लिए मजबूर किया इस मामले का आ’रोप बेंगलुरु शहर के पुलिस थाने के उपनिरीक्षक पर लग रहा है। पीड़ित द्वारा लगाए आरोप के बाद विभागीय जांच के आदेश आए हैं जांच के लिए।

पुलिस आयुक्त (पश्चिम) संजीव एम पाटील में इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि सोमवार को इस मामले की एक रिपोर्ट सौंपी गई थी जिसके आधार पर (हरीश के एन) को ड्यूटी पर लापरवाही, पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट नहीं लिखने पर और मामले को दर्ज नहीं करने पर निलंबित कर दिया गया है।

आपको बता दें कि एक विवा’द के चलते 23 वर्षीय तौसीफ पाशा को गुरुवार दोपहर 1:00 बजे उसके पड़ोसी के साथ थाने ले जाया गया था। तौसीफ के पिता असलम पाशा ने बताया कि उनके बेटे के साथ थाने में मारपीट की गई और तौसीफ को रिहा करने के बदले पैसों की मांग की पुलिस ने।

तौसीफ के पिता असलम पाशा बताते हैं कि तौसीफ के बाहर आने के बाद उन्हें जानकारी हुई कि तौसीफ को क्रूर यातना दी गई थी। जनसत्ता में प्रकाशित खबर के अनुसार तौसीफ ने अपनी आपबीती में कहा है कि –

सब इंस्पेक्टर हरीश और दो अन्य कॉन्स्टेबल जिनमें 1 क्राइम टीम भी शामिल है सब ने मिलकर मेरे पेट पर क्रूरता से मारा और जबरन मेरी दाढ़ी काट दी। इतना ही नहीं बल्कि मुझे पेशाब पीने के लिए भी मजबूर किया। तौसीफ बताते हैं कि मुझे कम से कम 30 बार क्रिकेट के बल्ले से मा’रा गया और जब मैंने पानी मांगा तो मुझे पेशाब पिलाया गया। मुझसे थाने की सफाई भी करवाई। पीड़ित परिवार ने बताया कि तौसीफ को विक्टोरिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था और सोमवार को उसे छुट्टी दे दी गई थी।

विज्ञापन