मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले में सिख ग्रंथी के साथ पुलिस की बर्बरता का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। जिसमे पुलिस सिख ग्रंथी को न केवल बाल पकड़कर घसीट रही है बल्कि उसकी सरेआम पिटाई भी कर रही है। मामले में दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है और मामले की जांच चल रही है।

इस वीडियो को राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और केंद्रीय कैबिनेट मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने साझा किया और कार्रवाई की मांग की। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ट्वीट कर बताया कि मामले में एएसआई और हेड कॉन्स्टेबल को निलंबित कर दिया गया है।

कमलनाथ ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर घटना का वीडियो जारी करते हुए लिखा, ‘मध्यप्रदेश के बड़वानी के पलसूद में प्रेम सिंह ग्रंथी जो कि वर्षों से पुलिस चौकी के पास छोटी सी दुकान लगाकर जीवन यापन करते आ रहे हैं। उनको वहां पुलिस ने अमानवीय तरीके से पीटा, उनकी पगड़ी उतार दी, बाल पकड़कर बुरी तरह से सड़क पर उनकी पिटाई की। यह गुंडागर्दी होकर सिख धर्म की धार्मिक परंपराओं का अपमान भी है। ऐसी घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जा सकती हैं।’

वही शिवराज सिंह ने इसे लेकर ट्वीट किया, ‘बड़वानी में एएसआई सीताराम भटनागर और हेड कॉन्स्टेबल मोहन जामरे को सिख बंधुओं के साथ अमानवीय व्यवहार के लिए तुरंत निलंबित किया गया है। सिखों के साथ ऐसी बर्बरता किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मामले की जांच इंदौर आईजी द्वारा की जाएगी और इनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई होगी। ऐसी बर्बरता और अराजकता मैं किसी भी हाल में सहन नहीं करूंगा। दोषियों को उनके कुकर्मों की सजा अवश्य मिलेगी।

वीडियो में प्रेम सिंह नाम का शख्स कह रहा है कि ये लोग हमें पीट रहे हैं, हमें मार रहे हैं। पुलिस बाल पकड़कर खींच कर ले जा रही है… पुलिसकर्मी हमें स्टॉल नहीं लगाने दे रहे है।” पीड़ित व्यक्ति मौके पर मौजूद भीड़ से बचाने की गुहार लगा रहा है।

जानकारी के मुताबिक, यह घटना बड़वानी के राजपुर तहसील का है। इलाके में चाय का ठेला लगाने को लेकर पुलिस और प्रेम सिंह ग्रंथी के परिवार के बीच विवाद हुआ। पुलिस का कहना है कि प्रेम सिंह ने शराब पी रखी थी। वहीं, सिंह का आरोप है कि घूस देने से मना करने के बाद पुलिसकर्मियों ने उनके साथ मारपीट की।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन