लंदन. पीएनबी घोटाले के आरोपी नीरव मोदी (48) की जमानत याचिका पर 5वीं बार खारिज हो गई।  उसने 30 अक्टूबर को अर्जी दाखिल की थी। बता दें कि नीरव 7 महीने से लंदन की वांड्सवर्थ जेल में है।

जमानत याचिका खारिज होने पर मोदी ने अपना आपा खोते हुए कहा कि अगर उसे भारत भेजा गया तो वह खुदकुशी कर लेगा। इसका कोर्ट पर कोई असर नहीं पड़ा और कोर्ट ने पांचवीं बार उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी। इस दौरान नीरव मोदी के वकील कीथ क्यूसी ने अदालत में दावा किया कि उसके मुवक्किल को वेंड्सवर्थ जेल में दो बार पीटा गया है।

भारत की अपील पर प्रत्यर्पण वारंट जारी होने के बाद लंदन पुलिस ने नीरव मोदी को 19 मार्च को गिरफ्तार किया था। जमानत के लिए नीरव के वकीलों ने इलेक्ट्रोनिक डिवाइस से निगरानी रखने और 20 लाख पाउंड का जमानती बॉन्ड भरने जैसे प्रस्ताव भी दिए थे।

pnb

लेकिन वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट ने कहा था कि नीरव एक बड़े घोटाले का आरोपी है।जमानती बॉन्ड की रकम बढ़ाने से उसके भागने का जोखिम कम नहीं हो सकता। नीरव की जमानत अर्जी यूके हाईकोर्ट से भी खारिज हो चुकी है।

न्यायाधीश एम्मा अर्बथनॉट ने कहा कि ‘‘अतीत से अंदाजा लगाया जा सकता है कि भविष्य में क्या हो सकता है।’’ न्यायाधीश ने कहा कि वह अब भी नहीं मानती हैं कि वह सबूतों से छेड़छाड़ नहीं करेगा और मई 2020 में मुकदमे के दौरान अदालत के सामने आत्मसमर्पण कर देगा।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन