modi az

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई ऐतिहासिक गलतियों वाले बयान दिए है. जो देश के स्वतंत्रता सेनानियों से लेकर मुल्क की हिफाजत करने वालों से जुड़े हुए थे.

पीएम मोदी का एक बयान जनरल करियप्पा और जनरल थिमैय्या को लेकर था. जिसमे उन्होंने आरोप लगाया था कि नेहरू ने 1962 के भारत-चीन युद्ध के हीरो रहे जनरल करियप्पा को बेइज्जत किया था. इस बयान को लेकर अब उनके बेटे ने पीएम मोदी से माफ़ी की मांग की है.

दरअसल, पीएम मोदी के दावे के उलट सत्य यह है कि जनरल करियप्पा 1953 में ही रिटायर हो चुके थे और उसके 9 साल बाद भारत-चीन युद्ध हुआ था. करियप्पा के बेटे ने  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान को निराशाजनक बताया. उन्होंने कहा कि उन्हें मोदी से गलत बयानी की उम्मीद नहीं थी. उन्हें इस पर खेद प्रकट करना चाहिए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Image result for cariappa

उन्होंने द क्विंट से बातचीत में कहा, जिस भी व्यक्ति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गुमराह किया, उसे फटकार लगनी चाहिए। विवाद जनरल थिमैय्या और कृष्ण मेनन के बीच पैदा हुए थे. जबकि मेरे पिता और कृष्ण मेनन के बीच कोई विवाद नहीं था, क्योंकि वह संयुक्त राष्ट्र में थे और पिता यहां थे.

पूर्व एयर मार्शल केसी करियप्पा ने कहा कि वह निश्चिंत थे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने बयान पर पछतावा व्यक्त करेंगे. उन्होंने कहा कि वह दुखी महसूस करते हैं कि मोदी ने इस तरह की स्पीच पढ़ी.

Loading...