Sunday, October 17, 2021

 

 

 

बजट सत्र में JNU विवाद पर चर्चा कराने को तैयार हुई मोदी सरकार

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली। बजट सत्र के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सर्वदलीय बैठक बुलाई है। सर्वदलीय बैठक में जेएनयू मुद्दे पर उठे विवाद की ध्वनि भी सुनाई दी और विपक्षी दलों ने गिरफ्तार छात्र नेता पर देशद्रोह का मामला दर्ज करने के खिलाफ विचार व्यक्त किया। दूसरी तरफ सरकार ने इस बात पर जोर दिया कि छात्रों द्वारा की गई नारेबाजी ‘अत्यंत आपत्तिजनक’ है।

सरकार ने कहा कि वह 23 फरवरी से शुरू हो रहे संसद के बजट सत्र के दौरान सदन में जेएनयू से जुड़े विवाद पर चर्चा कराने को तैयार है और मोदी ने कहा कि सरकार विपक्ष द्वारा उठाई गई चिंताओं को दूर करेगी। दो घंटे से अधिक समय तक चली बैठक के बाद संसदीय कार्य मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सरकार विपक्षी दलों की सभी चिंताओं को दूर करेगी। बैठक के दौरान विपक्षी दलों ने कई मुद्दे उठाए और कहा कि वह केवल बीजेपी के प्रधानमंत्री नहीं है बल्कि पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं।

संसद के बजट सत्र से पहले विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ चर्चा के क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से बुलाई गई यह पहली ऐसी बैठक है। मोदी ने बैठक के दौरान कहा कि हम विपक्ष की ओर से उठाए गए मुद्दों पर प्रतिक्रिया देंगे और उनका निराकरण करेंगे, मुझे उम्मीद है कि यहां बना सौहार्दपूर्ण माहौल संसद में कार्यरूप में परिणत होगा।

कांग्रेस नेताओं ने हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय में एक दलित शोधार्थी के मुद्दे का भी जिक्र किया। इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश में राज्य के निर्णयों के विषय को भी उठाया गया जिसके कारण वहां राष्ट्रपति शासन लगाया गया। जीएसटी विधेयक पर पार्टी के रूख के बारे में पूछे जाने पर आजाद ने कहा कि बैठक के दौरान विधेयक पर चर्चा नहीं हुई।

वेंकैया ने कहा कि सत्र शुरू से पहले होने वाली पारंपरिक बैठक 22 फरवरी को होगी जिसमें विधेयकों और सत्र से जुड़े अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी। बहरहाल, आजाद ने बैठक में विभिन्न दलों के नेताओं को आमंत्रित करने की मोदी की पहल का स्वागत किया।

वेंकैया ने कहा कि सभी दलों ने एक स्वर से कहा कि संसद में कामकाज होना चाहिए। संसद में गतिरोध के कारण लोगों में क्षोभ बढ़ रहा है.. मुद्दों पर चर्चा नहीं हो रही है। कांग्रेस पर परोक्ष चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि विपक्षी दल ने देश के माहौल का जिक्र किया लेकिन दूसरे दलों ने कहा कि कोई ‘किंतु और परंतु’ नहीं होना चाहिए और संसद में कामकाज होना चाहिए । (ibnlive)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles