अंतर्राष्ट्रीय हिंदू परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. प्रवीण तोगड़िया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दाऊदी बोहरा समाज के मस्जिद में जाने को लेकर भड़क उठे है। तोगड़िया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी श्रीराम को भूल गए हैं और इंदौर में मस्जिद से इश्क कर बैठे हैं।

डॉ. तोगड़िया ने कहा कि हिंदू समाज को अपना वैभव वापस पाने के लिए संगठन के कार्यकर्ताओं ने सरकार बनाने में अपना योगदान दिया। उम्मीद थी कि देश में बेरोजगारी, अशिक्षा, भुखमरी, बलात्कार को नियंत्रित करने के साथ यह सरकार राम मंदिर का निर्माण कर रामराज्य लाएगी। लेकिन इन सभी मुद्दों पर केंद्र की वर्तमान सरकार पूरी तरह से विफल साबित हुई है। न राम मंदिर का निर्माण हुआ और न ही रामराज्य आया। राम मंदिर का वादा करके केंद्र की सत्ता में पहुंचने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनाव के पहले तक मंदिरों से प्रेम था लेकिन सत्ता में आने के बाद वह मस्जिदों से इश्क लड़ा रहे हैं।

modi bjp 1524108603 618x347

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा का कांग्रेसी करण कर दिया है। उत्तराखंड सरकार में ज्यादातर मंत्री उन्हें बनाया गया है, जो कांग्रेस छोड़कर आए थे। असम में 11 में से दस मंत्री पूर्व के कांग्रेसी हैं। भाजपा कांग्रेसी विचारधारा वाली पार्टी बन गई है। साढ़े चार साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर बनाने के लिए कानून नहीं बना पाए। मंदिर की बात आती है तो उन्हें सुप्रीम कोर्ट याद आती और एससीएसटी एक्ट की बात हो तो संसद में कानून पास कर दिया जाता है।

तोगड़िया ने कहा कि मोदी श्रीराम को भूल गए और किसान, मजदूर, व्यापारी, उद्यमियों को रामभरोसे छोड़ दिया। प्रधानमंत्री को अब धारा 370 याद नहीं आती हैं। महंगाई ने जनता का हाल बेहाल कर दिया है, लेकिन प्रधानमंत्री को इससे कोई सरोकार नहीं है। उनके पास विदेशों में घूमने का समय है, मगर देश की जनता के लिए समय नहीं है। 2019 के लोकसभा चुनाव में अयोध्या में राम मंदिर बनाने और हिंदुत्व को साथ लेकर चलने वाली सरकार बनेगी।

Loading...