Friday, October 22, 2021

 

 

 

भारत सबसे पहले लॉकडाउन लगाने वालों में था, इसलिए कोरोना के मामलों में आ रही कमी: पीएम मोदी

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि भारत सबसे पहले लॉकडाउन लागू करने वालों में था, इसके साथ ही लोगों को मास्क लगाने और सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करने के लिए प्रेरित किया गया। जिसके कारण भारत में कोरोनावायरस संक्रमण के मामलों में कमी आई है और इससे ठीक होने की दर 88 प्रतिशत तक पहुंच गई है।

उन्होंने कहा कि आज हम देख रहे है कि देश में कोरोना संक्रमण के मामले प्रति दिन घट रहे हैं और इसकी वृद्धि की दर में भी कमी आई है। भारत में आज ठीक होने की दर भी 88 प्रतिशत हो गई है। उन्होंने कहा, ‘ऐसा इसलिए संभव हुआ क्योंकि भारत लॉडाउन लागू करने वाला पहला देश था। भारत पहले देशों में था जिसने मास्क के इस्तेमाल को लेकर लोगों को प्रोत्साहित किया। संक्रमण का पता लगाने के लिए भारत ने प्रभावी तरीके से काम किया और रेपिड एंटीजन जांच शुरू करने वाले पहले देशों में था।’

उन्होंने कहा, ‘‘हम यहीं रूकने वाले नहीं हैं। हम टीका वितरण का तंत्र भी विकसित कर रहे हैं।” मोदी ने कहा कि भारत ने स्वच्छता बढ़ाने और शौचालयों की संख्या बढ़ाने समेत अनेक प्रयास किये हैं जो बेहतर स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में योगदान दे रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने विज्ञान और नवाचार में ‘सुनियोजित निवेश’ का आहृवान करते हुए कहा कि विश्व का भविष्य वह समाज निर्धारत करेगा जो इन क्षेत्रों में निवेश करेगा लेकिन सहयोग और जन भागीदारी इसमें प्रमुख भूमिका निभाएंगे। उन्होंने कहा, भविष्य वे समाज तय करेंगे जो विज्ञान और नवाचार में निवेश करेंगे।

प्रधानमंत्री ने स्वच्छता और शौचालय का दायरा बढ़ाने जैसे सरकार के कदमों का उल्लेख करते हुए कहा कि इससे बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं विकसित करने में मदद मिली है। उन्होंने कहा कि यह बैठक भारत में होना तय हुआ था लेकिन अब बदली हुई परिस्थितियों में डिजीटल माध्यम से हो रही है।
‘ग्रैंड चैलेंजेस’ पिछले 15 वर्षों से स्‍वास्‍थ्‍य और विकास के क्षेत्र में चुनौतियों का समाधान करने में नवाचार के क्षेत्र में अंतर्राष्‍ट्रीय सहयोग बढ़ाने के लिए काम कर रहा है। इस बैठक का आयोजन 19 से 21 अक्टूबर के बीच हो रहा है । इसका उद्देश्य दुनिया भर के अग्रणी वैज्ञानिकों और नीति निर्माताओं को एक मंच पर एक साथ लाना है ताकि उभरती स्वास्थ्य चुनौतियां का समाधान पाने के लिए वैज्ञानिक साझेदारी को और प्रगाढ़ किया जा सके।
इस बैठक में विशेष जोर ‘इंडिया फॉर द वर्ल्ड’ के साथ कोविड-19 पर रहेगा। इस कार्यक्रम के माध्यम से दुनिया के नेताओं के साथ-साथ जाने-माने वैज्ञानिक और शोधकर्ता विचार-विमर्श करेंगे। मंथन के केंद्र में महामारी के उपरांत टिकाऊ विकास लक्ष्य को आगे बढ़ाने के लिए मुख्य प्राथमिकताएं और कोविड-19 के प्रबंधन में उभर रही चुनौतियों का सामना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles