नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज शुक्रवार को मध्य प्रदेश के रीवा में स्थापित 750 मेगावाट की सौर परियोजना का उद्घाटन कर राष्ट्र को समर्पित किया। मोदी ने कहा कि मध्य प्रदेश साफ-सुथरी और सस्ती बिजली का हब बन जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, आज रीवा ने इतिहास रच दिया है। जब हम इस प्लांट का वीडियो आसमान से देखते हैं, तो लगता है हजारों सोलर पैनल फसल बनकर लहरा रहे हों। रीवा का सोलर प्लांट इस पूरे क्षेत्र को ऊर्जा का केंद्र बनाएगा, इससे एमपी के लोगों को लाभ मिलेगा और दिल्ली में मेट्रो को भी बिजली मिलेगी। मोदी ने कहा कि सौर ऊर्जा के मामले में भारत शीर्ष के पांच राष्ट्रों में शामिल हो गया है।

उन्होने कहा, रीवा की पहचान सफेद बाघ से रही है। अब इसमें एशिया के सबसे बड़े सोलर पावर प्रोजेक्ट का नाम भी जुड़ गया है। रीवा का ये प्लांट इस पूरे क्षेत्र को ऊर्जा का बहुत बड़ा केंद्र बनाने में मदद करेगा। इसके अलावा रीवा की ही तरह शाजापुर, नीमच और छतरपुर में भी बड़े सोलर पावर प्लांट पर काम चल रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर के विषय में इकॉनोमी एक जरूरी पक्ष है। वर्षों से यही मंथन है कि अर्थव्यवस्था की सोचें या पर्यावरण की, लेकिन भारत ने दिखाया है कि दोनों को एक साथ किया जा सकता है। अब हमें देश में ही सोलर प्लांट से जुड़े सामान को भारत में बनाया जाएगा।

उन्होने कहा, आत्मनिर्भर भारत के तहत आयात पर इनकी निर्भरता कम की जाए और यहां पर इसके उत्पादन को बढ़ावा दिया जाएगा। अब सरकार का कोई भी विभाग अगर कोई सोलर प्लांट से जुड़ा कुछ सामान लेता है, तो वो मेक इन इंडिया को ही खरीदेगा।

बता दें कि इस सौर पार्क को रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड (आरयूएमएसएल) ने विकसित किया है। यह मध्य प्रदेश उर्जा विकास निगम लिमिटेड (एमपीयूवीएन) और केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र की ईकाई सोलर एनर्जी कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एसईसीआई) की संयुक्त उद्यम कंपनी है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन