भारत-पाकिस्तान में जारी तनावों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को इमरान खान को पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस की शुभकामनाएं दी. इमरान ख़ान ने मोदी की ओर से मिले संदेश का स्वागत किया है’. ख़ान ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें संदेश भेजकर पाकिस्तान के लोगों को ‘राष्ट्रीय दिवस की बधाई दी है’.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ये संदेश भारत में सियासी विवाद की वजह बन गया है. कांग्रेस और विपक्ष ने इस बावत पीएम नरेंद्र मोदी पर सवालों की बौछार कर दी है. कांग्रेस ने पूछा है कि क्या सचमुच में पीएम नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान को कोई संदेश भेजा है? क्या इमरान खान जिस संदेश को रिसीव करने का दावा कर रहे हैं वही संदेश पीएम मोदी ने उन्हें भेजा है? इन सवालों पर पीएमओ को जवाब देना चाहिए.

Loading...

इमरान खान ने शुक्रवार को एक ट्वीट कर कहा, “PM मोदी से संदेश मिला है, पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस पर मैं पाकिस्तान के लोगों को बधाई एवं शुभकामनाएं देता हूं, वक्त आ गया है कि उपमहाद्वीप के लोग आतंक और हिंसा से मुक्त वातावरण में लोकतांत्रिक, शांतिपूर्ण, प्रगतिशील और समृद्ध क्षेत्र के लिये मिलकर काम करें.”

ऐसे में कांग्रेस नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि पीएमओ को स्पष्ट करना चाहिए कि जिस संदेश का हवाला इमरान खान दे रहे हैं वैसा ही संदेश पीएम मोदी ने भेजा है. उन्होंने ट्वीट किया, “मुझे उम्मीद है कि पीएमओ इंडिया स्पष्ट करेंगे कि जो इमरान खान ने ट्वीट किया है वो दोनों नेताओं के बीच आदान-प्रदान हुए बधाई संदेश का असली स्वरुप है, क्या इन दोनों नेताओं के बीच संदेश दिए भी गए हैं, खासकर तब जब भारत में सरकार ने पाकिस्तान के कार्यक्रमों का बहिष्कार किया थ, ये देश जानना  चाहता है.”

वहीं जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने भी टिप्पणी की. उमर अब्दुल्ला ने कहा कि जिस तरह पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस में शिरकत करने जा रहे लोगों को रोका जा रहा है उसी तरह कुछ लोग प्रधानमंत्री को भी पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस पर संदेश देने से रोकते तो हम पाकिस्तान के साथ संबंधों में इतने विरोधाभासी नहीं दिखते.

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें